शुगर कंट्रोल करना चाहते हैं तो इन 3 तरह की चाय का करें सेवन

 

लाइफस्टाइल डेस्क। शुगर की बीमारी में अगर डाइट पर कंट्रोल नहीं किया जाए तो ब्लड में शुगर का स्तर बढ़ने लगता है, इसलिए शुगर के मरीज़ों को शुगर बढ़ाने वाले फूड्स से दूर रहना चाहिए। अगर डायबिटीज को कंट्रोल नहीं किया जाए तो कई और बीमारियां बॉडी में पनपने लगती हैं। कुछ लोगों को लगता है कि सिर्फ मिठी चीज़ों से परहेज करके शुगर को कंट्रोल किया जा सकता है, लेकिन ऐसा नहीं है। दिन भर की डाइट में आप ऐसी कई चीज़ों का सेवन करते हैं जिससे आपकी शुगर बढ़ती है। शुगर को कंट्रोल करने के लिए जहां कुछ चीज़ों से परहेज़ करना जरूरी है वहीं कुछ चीज़ों को डाइट में शामिल करने से शुगर को कंट्रोल किया जा सकता है। अगर आप भी बढ़ती शुगर से परेशान हैं तो डाइट में 3 तरह की चाय को शामिल करें आपकी शुगर कंट्रोल रहेगी साथ ही इम्यूनिटी भी स्ट्रॉन्ग होगी। आइए जानते हैं चार ऐसी चाय के बारे में जो आपकी इम्यूनिटी को स्ट्रॉन्ग करेगी और आपकी शुगर भी कंट्रोल करेंगी।

ग्रीन टी का करें सेवन:

औषधीय गुणों से भरपूर ग्रीन टी ना सिर्फ वज़न को कंट्रोल रखती है बल्कि यह शुगर भी कंट्रोल रखती है। एंटी ऑक्सीडेंट गुणों से भरपूर ग्रीन टी शरीर में इन्फ्लेमेशन और सेल डैमेज को कम करती है, साथ ही इन्सुलिन लेवल को भी मैनेज करती है।

दालचीनी की चाय जरूर पीएं:

दालचीनी किचन का काफी उपयोगी मसाला है जो न सिर्फ खाने का स्वाद बढ़ाती बल्कि बॉडी को कई तरह के फायदे भी पहुंचाती है। दालचीनी में एंटी ऑक्सीडेंट और एंटी इन्फ्लेमेटरी गुण पाए जाते हैं, जो डायबिटीज और इंसुलिन प्रतिरोध में फायदेमंद है। शुगर के मरीज़ नियमित रूप से दालचीनी की चाय बनाकर पी सकते हैं।

कैमोमाइल चाय: 

कैमोमाइल चाय हर्बल चाय की अच्छी किस्मों में से एक है जो सेहत के लिए बेहद उपयोगी है। कैमोमाइल चाय में एंटी इन्फ्लेमेटरी गुण मौजूद होते हैं जो ब्लड शुगर को कंट्रोल करते हैं। यह चाय नींद नहीं आने की समस्या से लेकर ऑस्टियोपोरोसिस के खतरे को कम करती है। इतना ही नहीं यह तनाव को दूर करने में भी असरदार है। डायबिटीज रोगी इसका सेवन करें फायदा मिलेगा। 

गुड़हल की चाय:

गुड़हल की चाय जिसे हिबिस्कस टी भी कहते हैं। ब्लड शुगर कंट्रोल करने में यह बहुत मददगार है। इसमें पॉलीफेनॉल एंटीऑक्सीडेंट होते हैं, जो ब्लड प्रेशर लेवल को नियंत्रित रखते हैं। 

टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार

महिला से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में एक आरोपित गिरफ्तार

डॉक्टरों ने ऑपरेशन के जरिये कटा हुआ हाथ जोड़ा