Mahindra Thar का भारत में दबदबा कायम, लोगों ने जमकर खरीदा डीजल वैरिएंट

 


नई दिल्ली, ऑटो डेस्क।  देश की दिग्गज वाहन निर्माता कंपनी महिंद्रा की लोकप्रिय ऑफ-रोडर थार ग्राहकों को बेहद पसंद आती है। मिली जानकारी के मुताबिक घरेलू वाहन निर्माता के लोकप्रिय ऑफ-रोडर थार ने अब तक 75,000 से अधिक बुकिंग ऑर्डर प्राप्त किए हैं। बता दें, इस कार को 2 अक्टूबर, 2020 को लॉन्च किया गया था। फिलहाल इन नंबरों को देखते हुए लग रहा है, कि महिंद्रा थार के ग्राहकों को अपने वाहन की डिलीवरी प्राप्त करने में लगने वाला औसत समय बढ़ सकता है।

डीजल वैरिएंट ज्यादा खरीद रहे लोग

हालांकि कंपनी ने एसयूवी के बारे में केवल बुकिंग नंबर का ही खुलासा नहीं किया है। इसके अलावा कंपनी ने बताया कि महिंद्रा थार की बुकिंग में मिलेनियल्स की हिस्सेदारी 40 फीसदी से ज्यादा है। जिसमें SUV की कुल बुकिंग में से आधी ऑटोमैटिक वैरिएंट के लिए हैं, और एसयूवी की कुल बुकिंग का 25 फीसदी पेट्रोल वेरिएंट का है। यानी जानकारी के आधार पर यह स्पष्ट है कि महिंद्रा थार डीजल देश में पसंदीदा मॉडल बना हुआ है। यह निश्चित रूप से दिलचस्प है, खासकर सरकार के रुख और देश में डीजल इंजन के खिलाफ प्रयासों को देखते हुए। 

दो इंजन विकल्प के साथ मौजूद

Mahindra Thar SUV दो इंजन विकल्पों में उपलब्ध है: इसमें एक 2.0-लीटर, चार-सिलेंडर mStallion पेट्रोल इंजन और एक 2.2-लीटर mHawk डीजल मोटर दी गई है। इसका पेट्रोल इंजन 150 बीएचपी की पॉवर और 320 एनएम टॉर्क जेनरेट करता है। जबकि थार डीजल इंजन 130 बीएचपी की पॉवर और 320 एनएम पीक टॉर्क बनाता है। दोनों इंजनों के साथ ट्रांसमिशन विकल्पों में छह-स्पीड मैनुअल गियरबॉक्स और छह-स्पीड ऑटोमैटिक ट्रांसमिशन के बीच एक विकल्प शामिल है।

5 से 7 महीने तक का वेटिंग पीरियड

Thar को अक्टूबर 2020 में लॉन्च किया गया था। बाजार में आने के एक महीने के भीतर ही इस ऑफ-रोड एसयूवी को 20,000 से अधिक बुकिंग प्राप्त हो चुकी थी। वर्तमान में इस कार का वेरिएंट्स के आधार पर 5 से 7 महीने तक का वेटिंग पीरियड दिया जा रहा है।

 

Popular posts from this blog

भीलवाड़ा नगर परिषद चुनाव : भाजपा ने 31, कांग्रेस ने 22 और निर्दलीय ने जीती 17 सीटें, बोर्ड के लिए जोड़ तोड़

सिपाहियों के कातिल जोधपुर और बाड़मेर के, एक फौजी भी शामिल !

वीडियो कोच ने स्कूटर को लिया चपेट में, दो बहनों की मौत, भाई घायल, बागौर में शोक