सोयाबीन फसल पर प्रक्षेत्र दिवस का आयोजन

 

भीलवाड़ा । कृषि विज्ञान केन्द्र भीलवाड़ा द्वारा राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजनान्तर्गत बिजौलियाँ पंचायत समिति के मकरेडी गाँव में सोयाबीन फसल पर प्रक्षेत्र दिवस का आयोजन किया गया। केन्द्र के वरिष्ठ वैज्ञानिक एवं अध्यक्ष डाॅ. सी. एम. यादव ने किसान भाईयों को तिलहन फसलों में उन्नत तकनीक अपनाकर उत्पादकता बढ़ाने तथा समय-समय पर मृदा की जाँच करवाकर आवश्यक पोषक तत्त्वों को ध्यान में रखते हुए फसल बुवाई करने की आवश्यकता प्रतिपादित की। डाॅ. यादव ने कृषक हितार्थ केन्द्र की योजनाओं एवं गतिविधियों की जानकारी देते हुए आह्वान किया कि किसान भाई कृषि सम्बन्धी समस्याओं के निराकरण हेतु केन्द्र के वैज्ञानिकों से सम्पर्क स्थापित कर कृषि में नवाचार करें। 
नोडल अधिकारी एवं शस्य वैज्ञानिक डाॅ. के. सी. नागर ने सोयाबीन फसल उत्पादन की विस्तृत जानकारी, नवीनतम किस्में, खरपतवार प्रबन्धन के साथ-साथ उत्पादित बीज को आगामी फसल की बुवाई हेतु भण्ड़ारण कर स्वयं एवं आस-पास के किसानों को बीज के रूप में बेच कर उन्नत बीज उपलब्ध करवाकर आमदनी में वृद्धि करने की जानकारी दी। डाॅ. नागर ने कृषक हितार्थ केन्द्र एवं राज्य सरकार द्वारा संचालित विभिन्न योजनाओं, प्रयोगशाला से खेत तक तकनीकी के बारे में बताया। सहायक कृषि अधिकारी नन्द लाल सेन ने तिलहन फसलों में बीजोपचार, पोषक तत्त्व एवं रोग प्रबन्धन के बारे में तकनीकी जानकारी दी। 
फार्म मैनेजर महेन्द्र सिंह चुण्ड़ावत ने तिलहनी फसलों में सिंचाई व्यवस्था, सूक्ष्म सिंचाई पद्धति, उन्नत फसल बीजोत्पादन के साथ नवीनतम कृषि यन्त्रों रोटावेटर, सीड कम फर्टिलाईजर ड्रिल, चीजल प्लाउ एवं फसलों में जल मांग के आधार सिंचाई करने के बारे तकनीकी जानकारी दी। कृषि पर्यवेक्षक छीतरमल धाकड़ ने कृषि में कीटनाशक दवाओं एवं रसायनों की अपेक्षा जैव उर्वरकों का उपयोग करने एवं जैविक खेती अपनाने का सुझाव दिया। प्रक्षेत्र दिवस में 105 कृषक एवं कृषक महिलाओं ने भाग लिया। 

Popular posts from this blog

भीलवाड़ा नगर परिषद चुनाव : भाजपा ने 31, कांग्रेस ने 22 और निर्दलीय ने जीती 17 सीटें, बोर्ड के लिए जोड़ तोड़

सिपाहियों के कातिल जोधपुर और बाड़मेर के, एक फौजी भी शामिल !

वीडियो कोच ने स्कूटर को लिया चपेट में, दो बहनों की मौत, भाई घायल, बागौर में शोक