त्वचा पर भी दिखते हैं विटामिन-डी की कमी के ऐसे संकेत, न करें नज़रअंदाज़!

 

लाइफस्टाइल डेस्क। हमारे शरीर को सही तरीके से काम करने के लिए कई तरह के पोषण तत्वों की ज़रूरत होती है। जिनमें से विटामिन-डी की अहम जगह है। सूरज की किरणों से मिलने वाला ये पोषण आपकी हड्डियों, दांतों और त्वचा को मज़बूती देता है और उन्हें सेहतमंद रखता है। विटामिन-डी आपको खाने के ज़रिए भी मिल सकता है और यहां तक कि शरीर में कुछ हद तक इसका उत्पादन करता है। सूर्य के प्रकाश के संपर्क में आने पर, त्वचा यीवी किरणों को अवशोषित करती है और फिर उन्हें विटामिन-डी में बदल देती है।

हालांकि, आहार स्रोतों और पूरक आहार में प्रचुर मात्रा में उपलब्ध होने के बावजूद, लोग अक्सर विटामिन-डी की कमी से पीड़ित हो जाते हैं। और सबसे बुरा यह है कि अक्सर विटामिन-डी की कमी के लक्षण नज़र नहीं आते हैं।

कैसे होते हैं विटामिन-डी की कमी के लक्षण

विटामिन-डी की कमी के लक्षण अक्सर नज़र नहीं आते तब तक जब तक स्थिति गंभीर न हो जाए। हालांकि, त्वचा पर इसके कुछ लक्षण नज़र आ सकते हैं, जिन्हें आपको नज़रअंदाज़ नही करना चाहिए।

 

विटामिन-डी की कमी से त्वचा से जुड़े रोग हो सकते हैं- जैसे- एक्ज़ेमा और सोरोसिस। अगर त्वचा रूखी है, तो यह विटामिन-डी की कमी का शुरुआती लक्षण हो सकता है। खासतौर, पर अगर सर्दी के मौसम में त्वचा रूखी दिखती है, तो यह पोषण की कमी से हो सकता है। इसे दूर करने के लिए एक्सपर्ट्स सलाह देते हैं कि कुछ देर धूप में बैठें, इससे आपका शरीर विटामिन-डी बना सकेगा। वहीं, डाइट में भी ऐसी चीज़ें खाएं, जो विटामिन-डी को बढ़ावा देती हैं।

- नाश्ते में सीरियल या फैट युक्त स्प्रेड खाएं।

- मेक्कारेल, सारडीन्स और सैल्मन जैसी ऑयली फिश खाएं।

- अंडे की ज़र्दी

- कलेजी

- रेड मीट

विटामिन-डी शरीर को कैसे फायदा पहुंचाता है?

स्वस्थ स्किन और मांसपेशियों और मज़बूत हड्डियों व दांतों के लिए, हमारे शरीर को खूब सारे विटामिन-डी की ज़रूरत पड़ती है, जो सिर्फ खाने से नहीं मिल सकता। इसलिए सही डाइट के साथ धूप लेना भी ज़रूरी माना जाता है ताकि कुछ विटामिन आपका शरीर खुद भी बना सके।

इसके अलावा, विटामिन-डी आपके शरीर में कैल्शियम के अवशोषण में मदद करता है जिससे त्वचा, हड्डी और दांतों के स्वास्थ्य में और सुधार होता है। इसलिए, अगर आप कैल्शियम से भरपूर आहार खा रहे हैं, लेकिन विटामिन-डी की कमी है, तो हो सकता है कि आप इससे अधिकतम लाभ प्राप्त न कर पाएं। उम्रदराज़ लोगों में विटामिन-डी की कमी से ऑस्टियोमलेशिया भी हो सकता है - यह एक ऐसी स्थिति है, जो हड्डियों को नरम बनाती है।

Disclaimer: लेख में उल्लिखित सलाह और सुझाव सिर्फ सामान्य सूचना के उद्देश्य के लिए हैं और इन्हें पेशेवर चिकित्सा सलाह के रूप में नहीं लिया जाना चाहिए। कोई भी सवाल या परेशानी हो तो हमेशा अपने डॉक्टर से सलाह लें।

Popular posts from this blog

भीलवाड़ा नगर परिषद चुनाव : भाजपा ने 31, कांग्रेस ने 22 और निर्दलीय ने जीती 17 सीटें, बोर्ड के लिए जोड़ तोड़

सिपाहियों के कातिल जोधपुर और बाड़मेर के, एक फौजी भी शामिल !

वीडियो कोच ने स्कूटर को लिया चपेट में, दो बहनों की मौत, भाई घायल, बागौर में शोक