सीबीईओ सामरिया ने कि‍या विद्यालय का औचक निरीक्षण, छात्रों को दि‍ए दि‍शा र्नि‍देश

 

भगवानपुरा  ( कैलाश शर्मा ) लंबे समय के बाद विद्यालय खुले हैं ,और छात्र-छात्राओ का शिक्षण कार्य अभी शुरू हुआ है अतः सभी विद्यार्थियों को चाहिए कि वह मन लगाकर पढ़ाई करें , अपने गुरुजनों के निर्देशानुसार गृह कार्य समय पर करते हुए परीक्षा की तैयारी में लग जाए साथ ही विद्यालय के नियमों का विधिवत पालन करें जैसे मास्क लगाना, दो गज की दूरी बनाए रखना , पानी की बोतल साथ लाना , लंच बॉक्स साथ  लाना व लंच करते समय किसी प्रकार का आदान-प्रदान नहीं करना  आदि । उक्त विचार बुधवार को सीबीईओ मांडल मधु सामरिया ने राजकीय प्राथमिक विद्यालय बलाई खेड़ा ( सिडियास )  में मिड डे मील के औचक निरीक्षण के दौरान छात्र-छात्राओं से कहें  ।उन्होंने कहा  कि बरसात के इस मोसम में अनेक बीमारियां घर कर जाती हैं अतः आप स्वयं साफ व स्वस्थ रहें एवं अपने घर परिवार में भी सभी को स्वच्छता का संदेश दें वैसे अभी स्वच्छता पखवाड़ा चल रहा है अतः विद्यालय में भी स्वच्छता के प्रति ध्यान रखकर विद्यालय के नियमों का पालन करते हुए मन लगाकर अध्ययन करें । सी बी ईओ सामरिया ने राजकीय प्राथमिक विद्यालय का निरीक्षण करते हुए विद्यालय व्यवस्था को देखकर खुशी प्रकट करते हुए कहा  कि इस प्रकार सभी राजकीय विद्यालयों में भी होना चाहिए ताकि बच्चे घर जैसे वातावरण में पढ़ाई कर सकें ।सीबीईओ सामरिया के राजकीय प्राथमिक विद्यालय बलाई खेड़ा पहुंचने पर प्रधानाध्यापक कैलाश चंद्र शर्मा ने स्वागत करते हुए विद्यालय की आवश्यकताओं की जानकारी दी इसमें चार दिवारी, ट्री गार्ड, किचन शेड ,मुख्य द्वार, आदि है । इस अवसर पर पी ई ई ओ हरि नारायण त्रिपाठी ने रा उ मा  विद्यालय की आधारभूत सुविधाओं शोचालय , चार दिवारी, मिड डे मील बनाने हेतु किचन शेड निर्माण आदि महत्वपूर्ण आवश्यकताए बताई उन्होंने मिड डे मील के स्टॉक ,पेयजल व्यवस्था ,छात्र-छात्राओं की बैठक व्यवस्था व रिकॉर्ड संधारण की जांच करते हुए विद्यालय संचालन संबंधी आवश्यक निर्देश दिए । इस अवसर पर व्याख्याता श्याम लाल शर्मा , वरिष्ठ अध्यापक पुष्पेंद्र कुमार व्यास मंजू बिड़ला ,अशोक कुमार बिड़ला ,श्रवण लाल कालबेलिया  ,मथुरा लाल सोनी, पिंकी कुमारी ,परेश कुमार तिवाडी , शारीरिक शिक्षक दिनेश कुमार भंडिया उपस्थित थे

टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

शीतलाष्टमी की पूजा आज देर रात से, रंगोत्सव (festival of colors) कल लेकिन फैली है यह अफवाह ...!

मुंडन संस्कार से पहले आई मौत- बेकाबू बोलेरो की टक्कर से पिता-पुत्र की मौत, पत्नी घायल, भादू में शोक

जहाजपुर थाना प्रभारी के पिता ने 2 लाख रुपये लेकर कहा, आप निश्चित होकर ट्रैक्टर चलाओ, मेरा बेटा आपको परेशान नहीं करेगा, शिकायत पर पिता-पुत्र के खिलाफ एसीबी में केस दर्ज