गायत्री महायज्ञ को लेकर कलश यात्रा निकली, भक्तों की उमड़ी भीड़

 


गंगापुर (सुरेश शर्मा) अखिल विश्व गायत्री परिवार तत्वाधान शांतिकुण हरिद्वार के तहत आयोज्य तीन दिवसीय 21 कुण्डीय गायत्रीयस के दौरान दि. 31 अक्टूबर को  सैंकड़ों परिजनों द्वारा योग, प्राणायाम किया गया। स्वास्थ्य लाभ के सूत्र बताकर जीवन जीने की कला यहां के युग बताये गये। परिजनों ने भागीदारी कर योग शिविर का लाभ लिया।

कस्बे में गायत्री महायज्ञ को लेकर गंगा बाईसा महारानी के मंदिर से विशाल कलश यात्रा शुरू हुई। 251 कलशों की भव्य यात्रा में बहिनों द्वारा 51 तुलसी के पौधे,  51 सद्साहित्य सिर पर रख कर, महाराणा प्रताप, देवी देवताओं की झांकी, गायत्री गुरुदेव की झांकी सहित कई झांकियों के साथ भव्य कलश यात्रा गंगाबाई के मंदिर से प्रारंभ हुई। कलश यात्रा  गंगापुर कस्बे के प्रमुख मार्गों से होते हुए यज्ञ शाला में प्रविष्ट हुई। कलश यात्रा का कस्बे वासियों द्वारा जगह-जगह स्वागत किया गया। यज्ञशाला में पहुंचने के बाद कलशों की आरती कर प्रसाद वितरण किया गया। इस दौरान वरिष्ठ कार्यकत्ता - शंकरलाल सोमाणी, महेश दाधीच, प्रकाश सेन, नारायण अहीर सहित गायत्री शक्तिपीठ के पदाधिकारी उपस्थित थे। सांय कालीन भव्य दीप यज्ञ एवं संगीतमय कथा का आयोजन होगा। जिसमे 2100 दीपों से महाकाल की आरती की जायेगी। भव्य कलश यात्रा को लेकर भारी संख्या में महिलाएं पहुंची। कार्यक्रम में राजमल शर्मा, मनोहर लाल टेलर, जमुनालाल, सूरज कुमार, विनोद पंचोली, अरविंद दाधीच, चांदमल सेन, सुनील शर्मा, सहित गायत्री परिवार के पदाधिकारी, गायत्री शक्तिपीठ के कार्यकर्ता, गायत्री  भक्त, गंगापुर कस्बे के गणमान्य नागरिक, महिलाएं व बालिकाएं उपस्थिति थी।

टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

महिला से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में एक आरोपित गिरफ्तार

घर-घर में पूजी दियाड़ी, सहाड़ा के शक्तिपीठों पर विशेष पूजा अर्चना