हिंडोली में हादसा, दो कारें भिड़ी, भीलवाड़ा की सास-बहू, एक दिन के नवजात व चालक की मौत, एक घायल

 भीलवाड़ा बीएचएन। भीलवाड़ा की सास-बहू व एक दिन के नवजात शिशु के साथ ही वैन चालक की बीती देर रात सड़क हादसे में मौत हो गई। नवजात का पिता घायल हो गया। उसे कोटा अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। हादसा, कोटा-जयपुर हाइवे पर हिंडोली थाना इलाके में स्थित देवाखेड़ा कट पर हुआ, जहां इनकी वैन,  ब्रेजा कार से टकरा गई। बता दें कि प्रसव के बाद पति, पत्नी और नवजात बच्चे को ससुराल उमर  से लेकर मां के साथ अपने गांव चांदादंड लौट रहा था। उधर, हादसे की खबर से चांदादंड व उमर गांव में शोक छा गया।  
हिंडोली थाने के हैडकांस्टेबल फूलचंद ने बीएचएन को बताया कि भीलवाड़ा जिले के हनुमान नगर थाने के चांदादंड गांव के हंसराज मीणा का ससुराल हिंडोली थाने के उमर गांव में है। हंसराज की पत्नी रेखा ने पीहर उमर में एक दिन पहले बेटे को जन्म दिया था। हंसराज, अपनी मां नंदू 58 पत्नी सुवालाल मीणा के साथ पत्नी रेखा व एक दिन के नवजात शिशु को लेकर शुक्रवार की रात उमर से किराये की वैन से अपने गांव चांदादंड के लिए रवाना हुआ। वैन, उमर निवासी पिंटू कुमार 24 पुत्र जगदीश मीणा चला रहा था। 
मीणा परिवार को ले जा रही वैन रात बारह-साढ़े बारह बजे कोटा-जयपुर नेशनल हाइवे 52 पर देवाखेड़ा कट के पास पहुंची थी कि सामने से आई ब्रेजा कार से इसकी जोरदार भिड़ंत हो गई।  ब्रेजा में सवार दो लोग मौके से भाग गये। वहीं वैन में सवार नंदू बाई को  देवली, रेखा व उसके नवजात शिशु को बूंदी, जबकि रेखा के पति हंसराज व वैन चालक पिंटू को कोटा अस्पताल ले जाया गया। नंदू बाई को देवली, रेखा व नवजात बच्चे को बूंदी में मृत घोषित कर दिया। वहीं पिंटू की कोटा ले जाते समय रास्ते में मौत हो गई। हंसराज को कोटा के सुधा हॉस्पिटल में भर्ती करवाया गया है, जहां उसका उपचार किया जा रहा है। 
शनिवार सुबह चारों शव पोस्टमार्टम कराने के बाद परिजनों को सौंप दिये। ये शव जैसे ही चांदादंड व उमर पहुंचे, वहां के बाशिंदों की आंखें नम हो गई। वहीं परिजनों की चीत्कार से माहौल गमगीन हो गया। बाद में शवों का गमगीन माहौल में दाह-संस्कार करवा दिया। पुलिस ने ब्रेजा चालक के खिलाफ केस दर्ज कर लिया। 


टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

महिला से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में एक आरोपित गिरफ्तार

घर-घर में पूजी दियाड़ी, सहाड़ा के शक्तिपीठों पर विशेष पूजा अर्चना