भारी बारिश और बाढ़ के कारण महाराष्ट्र में अब तक 400 से ज्यादा लोगों की गई जान, जानें अन्य राज्यों के क्या हैं हालात

 


नई दिल्ली । देश के विभिन्न हिस्सों में लगातार हो रही बारिश के कारण सामान्य जनजीवन काफी प्रभावित हुआ है। बिहार, महाराष्ट्र, पश्चिम बंगाल समेत कई राज्यों में भारी बारिश के कारण बाढ़ जैसे हालात पैदा हो गए हैं। महाराष्ट्र में इस मानसून की बारिश में अब तक चार सौ से ज्यादा लोगों की जान जा चुकी है। वहीं, तेलंगाना की मुसी नदी में जलस्तर बढ़ने से बाढ़ जैसे हालात हो गए हैं। इसके अलावा बिहार के भी कई इलाकों में स्थिति सामान्य नहीं है।

महाराष्ट्र में अब तक 436 लोगों की मौत

महाराष्ट्र में मानसून की बारिश की वजह से अभी तक 436 लोगों की मृत्यु हो चुकी है। सिर्फ सितंबर महीने में 71 लोगों की जान गई है। अभी भी बारिश रुकने का नाम नहीं ले रही है। राज्य के ज्यादातर हिस्सों में पिछले दो दिनों में भारी बारिश ने लोगों के लिए और मुसीबत खड़ी कर दी है। पिछले दिनों में मराठवाड़ा और विदर्भ में हुई बारिश की वजह से 15 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं। बारिश के इस चरण को गुलाब चक्रवात का असर बताया जा रहा है। इस साल मानसून की बारिश में एक जून से अब तक 436 लोगों की जान जा चुकी है और छह लोग लापता हुए हैं।

राज्य के मंत्री विजय वडेट्टीवार ने जानकारी दी कि यहां 196 लोगों की मृत्यु बिजली गिरने से हुई है बाकी लोगों की जान बाढ़, घर गिरने, भूस्खलन आदि की चपेट में आने से हुई है। उन्होंने बताया कि सिर्फ सितंबर महीने में अभी तक 71 लोगों की जान गई है जबकि मानसून शुरू होने से पहले मई के अंत में आए टाक्टे तूफान में अरब सागर में एक बजरा डूब जाने से भी 86 लोग मारे गए थे।

गुलाब चक्रवात का झारखंड़ के कई इलाकों में दिखा असर

गुलाब चक्रवात का असर झारखंड़ के कई इलाकों में देखने को मिला है। इससे सबसे ज्यादा प्रभावित होने वाला जिला धनबाद है और उसके बाद बोकारो है। गुरुवार को दिनभर हुई मूसलाधार बारिश के कारण धनबाद में बाढ़ जैसा नजारा देखने को मिला।

पश्चिम बंगाल के आसनसोल में भारी बारिश के कारण सड़कों पर भरा पानी

बंगाल के कई जिलों में भारी बारिश के कारण सड़कों पर पानी भर गया है। आसनसोल और बाकुंड़ा में बुधवार से गुरुवार सुबह तक रिकार्ड बारिश दर्ज की गई। अलीपुर मौसम विभाग का कहना है कि आसनसोल और बाकुंड़ा में 24 घंटे में हुई यह अब तक की सबसे अधिक बारिश है।

 

टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

शीतलाष्टमी की पूजा आज देर रात से, रंगोत्सव (festival of colors) कल लेकिन फैली है यह अफवाह ...!

मुंडन संस्कार से पहले आई मौत- बेकाबू बोलेरो की टक्कर से पिता-पुत्र की मौत, पत्नी घायल, भादू में शोक

जहाजपुर थाना प्रभारी के पिता ने 2 लाख रुपये लेकर कहा, आप निश्चित होकर ट्रैक्टर चलाओ, मेरा बेटा आपको परेशान नहीं करेगा, शिकायत पर पिता-पुत्र के खिलाफ एसीबी में केस दर्ज