सुभाष नगर विद्यालय में टूटी दीवार, विद्यार्थी खुले आसमान के नीचे पढ़ने को मजबूर

 


भीलवाड़ा (पवन बावरी) । शहर के स्थानीय राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय सुभाष नगर मे अब विद्यार्थी खुले आसमान के नीचे पढ़ने को मजबूर हे। बरामदे व कमरों में दीवारों पर दरारे आने लगी हे जिससे किसी भी समय बड़ी अनहोनी हो सकती है। इसको लेकर शिक्षकों ने सभी विद्यार्थियों को बरामदो व  कमरों से बाहर  खुले आसमान के नीचे पढ़ाई करा रहे हे । आपको बता दें कि इस विद्यालय में कई सामाजिक व खेल संबंधी गतिविधियां संचालित होती है जिसमें कई छात्र छात्राओं ने राष्ट्र स्तर तक भीलवाड़ा जिले का नाम रोशन भी किया है ।

विद्यालय में शिक्षको की भी  कमी
सुभाष नगर विद्यालय में इस वर्ष छात्रों की संख्या बढ़ी है जिस कारण शिक्षकों की भी कमी है जिससे कई विषयों में विद्यार्थी अपना अध्ययन नहीं कर पा रहे हैं । इसी कारण उनकी शिक्षा भी रुकी  हुई है। विद्यालय में दरारें आने से बरामदे वह कमरों का सीमेंट उखड़ कर नीचे गिरने लगा है जिससे शिक्षक भी घबराए हुए हैं कि‍  कहीं बड़ी अनहोनी ना हो जाए इसको लेकर शिक्षक स्टाफ मजबूरन बाहर बैठकर छात्र-छात्राओं को शिक्षा का पाठ पढ़ा रहे हैं।

प्रिंसिपल है मगर ना के बराबर

जब हमने शिक्षकों से बात की तो उन्होंने कहा कि  प्रधानाचार्य अजमेर से आते हैं इस कारण वह समय अनुसार विद्यालय नहीं पहुंच पाते हैं। जब हमने इस के बारे में विद्यार्थियों से बात की तो उन्होंने कहा कि हमारे प्रधानाचार्य हैं मगर वह ना के बराबर है कभी आते हैं और कभी नहीं आते हैं विद्यालय में प्रधानाचार्य कई दिनों तक छुट्टियों पर रहते हैं।

सांसद बेहड़िया व पूर्व सभापति नराणीवाल ने दिया आश्वासन

अपना संस्थान द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में सांसद सुभाष चंद्र बेहड़िया व  नगर परिषद के पूर्व सभापति ओम नराणीवाल सुभाष नगर विद्यालय पहुंचे । इस दौरान विद्यालय के शिक्षकों ने उनके साथ बैठक कर विद्यालय के घटनाक्रम को बताया । दोनों राजनेताओं ने उन्हें आश्वासन दिया और  कहा कि‍ बहुत जल्द विद्यालय में सुधार होगा । इसको लेकर प्रशासन से मुलाकात करेंगे और विद्यालय मे दीवारों व बरामदा को सही  कराने का प्रयास करेंगे ।

टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

मुंडन संस्कार से पहले आई मौत- बेकाबू बोलेरो की टक्कर से पिता-पुत्र की मौत, पत्नी घायल, भादू में शोक

जहाजपुर थाना प्रभारी के पिता ने 2 लाख रुपये लेकर कहा, आप निश्चित होकर ट्रैक्टर चलाओ, मेरा बेटा आपको परेशान नहीं करेगा, शिकायत पर पिता-पुत्र के खिलाफ एसीबी में केस दर्ज

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार