जल्दबाजी में व्यापारी से दिल्ली के बजाये जौधपुर के बैंक खाते में हो गये 24.23 लाख रुपये ट्रांसफर, खाताधारक ने निकाल लिये नौ लाख,केस दर्ज

 


 भीलवाड़ा बीएचएन। स्थानीय एक व्यापारी को काम में जल्दबाजी करना महंगा पड़ गया। व्यापारी को 24.23 लाख रुपये दिल्ली की फर्म के खाते में ट्रांसफर करने थे, लेकिन यह राशि जयपुर के एक व्यक्ति के जौधपुर ब्रांच स्थित खाते में चली गई। खाताधारक ने पहले तो राशि लौटाने का आश्वासन दिया, लेकिन बाद में उसने  राशि भी नहीं लौटाई और खाते से नौ लाख रुपये भी निकाल लिये। ऐसे में व्यापारी ने प्रताप नगर थाने में एफआईआर दर्ज करवाई है। 
आजाद मोहल्ला निवासी व श्री माधव स्टील्स के मनीष पुत्र जगदीशप्रसाद अग्रवाल ने प्रताप नगर थाने में रिपोर्ट दी कि उनका पुर रोड़ स्थित टैक्सटाइल मार्केट में लोहे के लट्टे की ट्रेडिंग का व्यवसाय है। 27 सितंबर को उन्हें दिल्ली की ग्लोबल एक्स. प्रा.लि. को 24 लाख 23 हजार 135 रुपये माल के पेटे देने थे। यह राशि उक्त फर्म के दिल्ली स्थित आईसीआईआईसीआई बैंक खाते के बजाय जल्दबाजी में आईसीआईसीआई बैंक जोधपुर ब्रांच के एक अकाउंट में चला गया। 
पैसा जाने के 15-20  मिनिट बाद  पता लगा कि उक्त राशि दिल्ली की फर्म के खाते में नहीं पहुंच कर यह राशि जयपुर के कोई भवराराम चौधरी के अकाउंट में चली गई । अग्रवाल ने उक्त खाताधारक भवराराम के मोबाइल नंबर 7568265326 पर कॉल कर बताया कि उक्त राशि गलती से आपके खाते में ट्रांसफर हो गई है । यह राशि  आप वापस मेरे खाते में डलवा देना । खाताधारक भवराराम ने राशि वापस करने का विश्वास दिलाया । खाताधारक भवराराम ने पैसे वापस जमा नहीं कराए तो  बैंक के ब्रांच मैनेजर को लिखित ई-मेल डाला और भवराराम के खाते को सीज करने के लिए निवेदन किया।  जब तक खाता सीज किया गया, तब तक खाताधारक भवराराम ने नौ लाख रुपये निकाल लिए थे। शेष राशि  पन्द्रह लाख  खाते में सीज हैं । खाताधारक भवराराम ने परिवादी की अमानत के तौर पर उसके खाते में जमा की हुई राशि को खुर्द-बुर्द कर अमानत में खयानत कर धोखा धडी पूर्वक हड़प कर लिया तथा शेष राशि को जमा नहीं करवा रहा है । पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरु कर दी।   

टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

महिला से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में एक आरोपित गिरफ्तार

घर-घर में पूजी दियाड़ी, सहाड़ा के शक्तिपीठों पर विशेष पूजा अर्चना