कागजों में दौड़ रही है शहर में 34 सिटी बसें, लोग टेम्पो से यात्रा करने को मजबूर

 

 

भीलवाड़ा (विजय गढ़वाल)। परिवहन विभाग की अनदेखी के चलते भीलवाड़ा से सिटी बसें नदारद हो गई जबकि कागजों में वे शहर में दौड़ रही है। परिवहन को लेकर महिने दर महीने जिला कलक्टर बैठक भी लेते है और यातायात के साधन बढ़ाने पर जोर भी देते है लेकिन बैठक भी कागजों में ही सिमट कर रह जाती है। लोगों को एक क्षेत्र से दूसरे क्षेत्र में जाने के लिए टेम्पो का महंगा भाड़ा वहन करना पड़ रहा है। 
भीलवाड़ा में एक दर्जन से ज्यादा सिटी बसें कागजों में संचालित हो रही है लेकिन हकीकत में एक भी सिटी बस चलती हुई दिखाई नहीं देती है। रिकॉर्ड में भीलवाड़ा पुर के बीच 34 सिटी बसें दौड़ रही है। इन बसों में कौन सवारी कर रहा है यात्री या परिवहन विभाग के कारिन्दे! यह सभी में चर्चा है।
ये सिटी बसें कहां चल रही है। इस बारे में परिवहन विभाग का कोई भी कर्मी मुंह खोलने को तैयार नहीं है। ऐसे में आम लोगों को भीलवाड़ा से पुर जाने के लिए ऑटो रिक्शा का सहारा लेना पड़ रहा है जिससे उन्हें आर्थिक नुकसान भी उठाना पड़ रहा है। यही नहीं ऑटो रिक्शा में भी लोगों को भेड़ बकरी की तरह बैठना पड़ता है। 
ऐसा भी नहीं है कि भीलवाड़ा में कभी सिटी बसें नहीं चली हो। बरसों पहले महाराणा टॉकीज से गोल प्याऊ, स्टेशन चौराहा, रेलवे फाटक होते हुए सिटी बसें पुर तक जाती थी। जिससे गांधीनगर, बापूनगर, लेबर कॉलोनी, जवाहरनगर, बीलिया और आस पास के लोगों को सस्ता यातायात का साधन उपलब्ध था। लेकिन आज वह सिटी बसें गुम हो गई है, सिर्फ कागजों में दौड़ रही है। 
 

टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

देवा गुर्जर की गैंगवार में हत्या, विरोध में रोडवेज बस में लगाई आग !

देवा गुर्जर हत्या का मुख्य आरोपी दुर्गा गुर्जर गिरफ्तार 3 साथी भी पकड़े गए

कन्या हत्याकांड- भीलवाड़ा में साली की हत्या कर भागे जीजा ने एमपी में दी जान, मार कर मरुंगा का एफबी पर लगाया था स्टेटस

छोटे भाई की पत्नी के साथ होटल में रंगरलियां मना रहा था पुलिसकर्मी, सिपाही पत्नी ने पकड़ा और कर दी धुनाई

कार खड़े ट्रक से टकराई भीलवाड़ा के एक ही परिवार के तीन लोगों सहित 4 व्यक्तियों की मौत

फार्म हाउस पर छापा, भीलवाड़ा -चित्तौड़गढ़ जिले के 31 जुआरी गिरफ्तार सात लाख से ज्यादा की नकदी बरामद

कपड़ा व्यवसायी के घर चल रहा था सेक्स रैकेट , 2 लड़कियां सहित 6 हिरासत में