मीठा खाने की क्रेविंग को कम कर देंगे, ये 5 आसान उपाय!

 


लाइफस्टाइल डेस्क। गुलाब जामुन, केक, पेस्ट्री, सिनाबन और बहुत कुछ- इनका नाम सुनते ही लोगों के मुंह में पानी आ जाता है। कई बार लोगों को बेचैनी या तनाव में भी मीठा खाने की तलब होने लगती है। तो कई लोगों को खाने के बाद मीठा खाने की आदत होती है। हालांकि, भूख लगने पर लोग मीठा नहीं खाते, आप शरीर को एक तरह का तोफा देना चाहते हैं, तब मीठा खाते हैं।

चाहे फिर सुबह के नाश्ते के बाद हो या फिर डिनर, परीक्षाओं के समय या फिर किसी ज़रूरी काम से पहले। मीठा खाने से आपके दिमाग़ को शांति मिलती है, जिससे मूड अच्छा होता है। पोषण विशेषज्ञ और आहार विशेषज्ञ मानते हैं कि किसी व्यक्ति के हेल्दी डाइट को बनाए रखने में असमर्थता के पीछे मीठा ही सबसे बड़े कारण है।

अगर आप भी मीठे के तलब को कंट्रोल करना चाहते हैं, तो ऐसी हम आपको बता रहे हैं कुछ ऐसी ही टिप्स:

खाना स्किप न करें

जब भी कोई वज़न घटाना चाहता है, तो उसे लगता है कि कैलोरी कम करने के लिए एक वक्त का खाना छोड़ देना अच्छा है। हालांकि, अगर आप एक वक्त खाना नहीं खाएंगे, तो आपका मीठा खाने का दिल और ज़्यादा करेगा, जिससे आपकी कैलोरी इनटेक डबल हो जाएगी। एक्सपर्ट्स का मानना है, कि इससे बेहतर आप खाने में फाइबर और प्रोटीन से भरपूर खाना खाएं, जिससे आपका पेट भरा रहेगा और आप मीठा या स्नैक्स खाने से बचेंगे।

प्राकृतिक और स्वस्थ मीठा चुनें

मीठा कभी-कभी खा लेने से आपकी सेहत पर बुरा असर नहीं पड़ेगा, बल्कि इससे आपकी मेंटल हेल्थ को फायदा होगा। जब भी मीठा खाने का दिल करे, तो मिक्स नट्स, फल या फिर डार्क चोकोलेट का एक टुकड़ा खा लें।

नींद पूरी लें

हेल्थ एक्सपर्ट्स का कहना है कि नींद न पूरी हो पाना मीठे की तलब के पीछे अहम कारण है। इसलिए समय पर सोएं, ताकि आप कम से कम 7-8 घंटे सोएं, जिससे आपको मीठा खाने का दिल कम चाहेगा।

नमक के सेवन पर ध्यान दें

यह सुनने में भले ही अजीब लगे लेकिन ज़्यादा नमक के सेवन से भी मीठा खाने का दिल चाहने लगता है। ये मुंह के स्वाद को बदलने के लिए हो सकता है या फिर किसी और वजह से। यही वजह है कि खाने के बाद लोग मीठे की तलाश में होते हैं। इसलिए नमक के सेवन को कंट्रोल में रखें ताकि मीठे का सेवन भी कम हो।

खूब पानी पिएं

पर्याप्त पानी न पीने से भी भूख लगने लगती है। जिससे आप ज़्यादा खाना या फिर मीठा खा लेते हैं। रिसर्च में देखा गया है कि जब भी प्यास लगती है, तो 62 प्रतिशत लोग इसे भूख समझते हैं और जंक खा लेते हैं। इसलिए दिन भर में कम से कम दो लीटर पानी ज़रूर पिएं ताकि जंक फूड या फिर मीठा न खाएं।

Disclaimer: लेख में उल्लिखित सलाह और सुझाव सिर्फ सामान्य सूचना के उद्देश्य के लिए हैं और इन्हें पेशेवर चिकित्सा सलाह के रूप में नहीं लिया जाना चाहिए। कोई भी सवाल या परेशानी हो तो हमेशा अपने डॉक्टर से सलाह लें।

Popular posts from this blog

भीलवाड़ा नगर परिषद चुनाव : भाजपा ने 31, कांग्रेस ने 22 और निर्दलीय ने जीती 17 सीटें, बोर्ड के लिए जोड़ तोड़

सिपाहियों के कातिल जोधपुर और बाड़मेर के, एक फौजी भी शामिल !

वीडियो कोच ने स्कूटर को लिया चपेट में, दो बहनों की मौत, भाई घायल, बागौर में शोक