चित्तौड़गढ़ की 6 सबसे लोकप्रिय जगहें, जहां आप घूमना पसंद करेंगे

 

चित्तौड़गढ़ गौरवशाली शहर अपनी समृद्ध संस्कृति और विरासत के लिए जाना जाता है. चित्तौड़गढ़ मेवाड़ के सिसोदिया राजवंश की राजधानी हुआ करती थी और एक महान इतिहास समेटे हुए है. अगर आप भी समृद्ध इतिहास वाले स्थानों की ओर आकर्षित हैं और अधिक जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो आप चित्तौड़गढ़ का दौरा कर सकते हैं. आइए जानें चित्तौड़गढ़ में 5 सबसे लोकप्रिय जगहें कौन सी हैं.

Eb8bsmog

चित्तौड़गढ़ किला – चित्तौड़गढ़ शहर विशेष रूप से चित्तौड़गढ़ किले के लिए प्रसिद्ध है जो भारत के सबसे बड़े किलों में से एक है और एक विश्व धरोहर स्थल भी है. किले से कई किस्से जुड़े हुए हैं जो वीरता और बलिदान का एक बड़ा प्रतीक थे. ये उत्तर भारत के सबसे महत्वपूर्ण किलों में से एक है और सही मायने में राजपूत संस्कृति का प्रतिबिंब है. 

Zutrqxno

पद्मिनी पैलेस – पद्मिनी पैलेस ऐसा स्थान है जहां प्रसिद्ध रानी पद्मिनी मेवाड़ साम्राज्य के शासक राजा रावल रतन सिंह से विवाह के बाद रहती थीं. महल बेहद खूबसूरत है और रानी पद्मिनी द्वारा किए गए बलिदान के कारण इसके साथ बहुत सारा इतिहास जुड़ा हुआ है जब चित्तौड़गढ़ पर दिल्ली के सुल्तान अलाउद्दीन खिलजी ने हमला किया था. 

Urscb2hk

राणा कुंभा पैलेस – राणा कुंभा महल सबसे पुराने महलों में से एक है. ऐसा माना जाता है कि रानी पद्मिनी ने इस महल में ही जौहर किया था. 

Qq3restt (1)

सीतामाता वन्यजीव अभयारण्य – सीतामाता वन्यजीव अभयारण्य अपनी प्राकृतिक सुंदरता के कारण धरती पर स्वर्ग के समान है.  गुलमोहर, सिंदूर और रुद्राक्ष सहित पौधों के घने जंगल से घिरा ये स्थान लगभग 423 किलोमीटर के क्षेत्र में फैला हुआ है. इस जगह को 1979 में वन्यजीव अभयारण्य के रूप में घोषित किया गया था.अपने शांत वातावरण के कारण ये एक लोकप्रिय पर्यटन स्थल है. 

Brdxp0qv

काली माता मंदिर – ये मंदिर क्षत्रिय राजपूतों, देवी कालिका के मोरी पंवार वंश की कुलदेवी को समर्पित है. ये मंदिर शुरू में सूर्य भगवान को समर्पित था, हालांकि, बाद में मां काली की एक मूर्ति रखी गई और तब से, मंदिर को काली माता मंदिर के रूप में जाना जाने लगा.

Rbwak18o (1)

विजय स्तंभ – विजय स्तंभ को विजय मीनार के रूप में भी जाना जाता है. इसे मेवाड़ नरेश राणा कुम्भा ने महमूद खिलजी के नेतृत्व वाली मालवा और गुजरात की सेनाओं पर विजय के स्मारक के रूप में सन् 1440-1448 के मध्य बनवाया था.  नक्काशी और डिजाइन के साथ-साथ मकबरे की संरचना सबसे आकर्षक है. 

Popular posts from this blog

भीलवाड़ा नगर परिषद चुनाव : भाजपा ने 31, कांग्रेस ने 22 और निर्दलीय ने जीती 17 सीटें, बोर्ड के लिए जोड़ तोड़

सिपाहियों के कातिल जोधपुर और बाड़मेर के, एक फौजी भी शामिल !

वीडियो कोच ने स्कूटर को लिया चपेट में, दो बहनों की मौत, भाई घायल, बागौर में शोक