गंगापुर में सबसे बड़ी अध्यापक पात्रता परीक्षा रीट को लेकर प्रशासन की चाक-चौबंद व्यवस्था सेंट्रो के बाहर लगी परीक्षार्थियों की कतारें

 


गंगापुर (सुरेश शर्मा ) | प्रदेश में सबसे बड़ी अध्यापक पात्रता परीक्षा रीट का आयोजन रविवार को गंगापुर कस्बे के 4 सेंटरों पर लेवल 2 का प्रथम पाली में परीक्षा का आयोजन प्रातः 10 बजे से दोपहर 12:30 बजे तक किया गया। प्रशासन ने नकल में अनुचित साधनों के प्रयोग पर अंकुश लगाने के लिए विशेष सुरक्षा व्यवस्था की गई। पुलिस और प्रशासन ने कड़े इंतजाम किए बस स्टैंड मुख्य बाजार परीक्षा केंद्रों पर भारी संख्या में पुलिसकर्मी तैनात रहे। परीक्षा को लेकर आज इंटरनेट सेवाएं बंद रही। सुबह 9 बजे परीक्षा केंद्रों पर प्रवेश प्रारंभ हुआ, केंद्रों पर परीक्षार्थियों की लंबी कतारें लगी हुई थी। परीक्षा केंद्र में प्रवेश के लिए परीक्षार्थियों को मास्क दिए गए। नकल किसी भी तरह के पेपर लीक की घटना को रोकने के लिए मोबाइल पार्टी व आला अधिकारी क्षेत्र में गश्त करते रहे। परीक्षा देने के लिए गंगापुर कस्बे में परीक्षार्थियों की भारी भीड़ सुबह से केंद्रों के बाहर दिखाई देने लगी। गंगापुर कस्बे में वाहनों का प्रवेश बंद कर दिया गया। प्रथम पाली की परीक्षा देने के बाद परीक्षार्थियों की भारी भीड़ सड़क मार्ग पर दिखाई दी। समूचे कस्बे के मुख्य मार्गों पर लगने वाले हाथ खेलों को भी आज मार्ग से हटा दिया गया।

कस्बे वासियों ने की परीक्षार्थियों के लिए व्यवस्था

गंगापुर कस्बे में अध्यापक पात्र परीक्षा देने के लिए पहुंचे बाहर के परीक्षार्थियों के लिए युवा जागृति मंच गंगापुर द्वारा रहने, नहाने, खाने व सोने की व्यवस्था की गई। परीक्षार्थियों को केंद्रों तक पहुंचाने के लिए  कोर्ट चौराहे पर बसें लगाई गई। जागृति मंच के पदाधिकारियों ने सुबह परीक्षा देने वाले लोगों के लिए चाय व नाश्ते की व्यवस्था की। दोपहर में परीक्षा समाप्त होने के बाद युवा जागृति मंच द्वारा भोजन के पैकेट भी परीक्षा केंद्र सोमिला स्कूल, अमित बोलिया स्कूल, आचार्य अमृत महाविद्यालय पर पहुंचाए गए। सभी परीक्षार्थियों को भोजन पैकेट वितरण किए गए।

 

Popular posts from this blog

भीलवाड़ा नगर परिषद चुनाव : भाजपा ने 31, कांग्रेस ने 22 और निर्दलीय ने जीती 17 सीटें, बोर्ड के लिए जोड़ तोड़

वीडियो कोच ने स्कूटर को लिया चपेट में, दो बहनों की मौत, भाई घायल, बागौर में शोक

सिपाहियों के कातिल जोधपुर और बाड़मेर के, एक फौजी भी शामिल !