रेवाड़ा में महिला का कुएं में मिला शव, बाहर पड़े थे खून के धब्बे व टोप्स, हत्या की आशंका, बदमाशों को पकडऩे की मांग को लेकर हंगामा, समझाइश पर शांत हुआ मामला

 


 भीलवाड़ा विजय गढ़वाल।जिले के रेवाड़ा गांव में शाम को घर से पशु लाने खेतों की ओर गई महिला का शव देर शाम एक कुएं में, जबकि कुएं के बाहर खून के धब्बे मिले हैं। इसे लेकर परिजनों के साथ ही ग्रामीणों ने महिला की हत्या की आशंका जताते हुये हंगामा किया। मौके पर पुलिस के आला अधिकारी, डॉग स्क्वायड और एफएसएल टीम भी पहुंची। समझाइश के बाद देर रात कुएं से निकलवाये शव को पुलिस ने कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए मोर्चरी भिजवा दिया। 
बागौर थाना प्रभारी अयूब खां ने हलचल को बताया कि रेवाड़ा (बोरियापुरा) निवासी सुखी (50) पत्नी किशनलाल ब्राह्मण रविवार शाम करीब साढ़े पांच बजे घर से खेतों की ओर पशुओं को लेने गई थी। पशु तो लौट आये, लेकिन सुखी नहीं लौटी। इसके चलते परिजन सकते में आ गये। चिंतित परिजन सुखी की तलाश करते हुये गांव से करीब पौन किलोमीटर दूर भील जाति के एक व्यक्ति का खेत है, जिसे सुखी ने गायें चराने के लिए सिजारे ले रखा था।  इस खेत पर बने कुएं के बाहर खून के धब्बे मिले। बाद में सुखी को संभाला तो उसकी लाश कुएं में पाई गई। सूचना पर थाना प्रभारी, एएसआई नरपत सिंह मय जाब्ता  मौके पर पहुंचे। उधर, यह खबर आग की तरह रेवाड़ा व अन्य गांवों में फैल गई। डेढ़ सौ से दो सौ लोग मौके पर जमा हो गये। 
खून के धब्बों के आधार पर परिजनों व ग्रामीणों ने सुखी की अज्ञात लोगों के द्वारा हत्या कर लाश कुएं में डाल देने की आशंका जताते हुये कार्रवाई की मांग की। इसे लेकर वहां हंगामा हो गया। सहाड़ा से एएसपी भी मौके पर पहुंचे और लोगों को समझाया। साथ ही जिला मुख्यालय से एफएसएल टीम व डॉग स्क्वायड डेल्टा को भी मौके पर बुलवा लिया गया। एफएसएल ने मौके से साक्ष्य जुटाये। वहीं डेल्टा शव से गंध लेकर घटनास्थल से गांव तक गया। पुलिस ने गुस्साये लोगों को समझाइश कर शांत किया। बाद में कुएं से निकाले गये शव को पोस्टमार्टम के लिए बागौर चिकित्सालय भिजवा दिया, जहां सोमवार सुबह शव का पोस्टमार्टम किया जायेगा। 

बिना मुंडेर का है कुआ
पुलिस सूत्रों के अनुसार, जिस कुएं में सुखी की लाश पाई गई वह खंडहर हाल में होकर बिना मुंडेर का पुराना कुआ है। यह बात भी सामने आई है कि सुखी को एक आंख से कम दिखाई देता था।  उधर, आशंका जताई जा रही है कि लुटेरों द्वारा छिपाझपटी करने और बचने के लिए भागते समय सुखी के कुएं में गिर जाने अथवा बदमाश उसे कुएं में धकेल सकते हैं। इसके अलावा कोई और कारण भ्ज्ञी हो सकता है। 

कान का एक टोप्स कुएं के बाहर मिला
सुखी ने दोनों कानों में सोने के टोप्स पहन रखे थे। परिजन जब उसकी तलाश करते हुये कुएं पर गये तो उन्हें कुएं के बाहर खून के धब्बे मिले। वहीं उसका एक टोप्स भी बाहर ही पड़ा मिला। ऐसे में परिजनों को सुखी की हत्या की आशंका हुई। 

सवा सात बजे मिली पुलिस को सूचना
बागौर पुलिस का कहना है कि महिला की कुएं में लाश होने की सूचना रविवार शाम सवा सात बजे मिली। इसके बाद पुलिस तुरंत ही मौके पर पहुंची, जहां ग्रामीणों व परिजनों ने मौत को हत्या बताते हुये कार्रवाई की मांग को लेकर हंगामा कर दिया। रात दस बजे तक यह हंगामा चला। 

तीन थानों की पुलिस पहुंची मौके पर
रेवाड़ा में महिला की हत्या की खबर पर बागौर पुलिस के बाद रायपुर थाना प्रभारी भागीरथ सिंह व मांडल थाना प्रभारी मुकेश वर्मा भी मय जाब्ता मौके पर पहुंचे। वहीं सहाड़ा से एएसपी भी घटनास्थल पर पहुंच गये। 
 
बदमाशों का पता लगाने की रखी मांग, नहीं उठाने दिया पुलिस को शव
सूत्रों के अनुसार, मौके पर जमा ग्रामीण सुखी की मौत को हत्या बताते हुये हंगामे पर उतर आये। उनकी मां थी कि बदमाशों का हाथों-हाथ पता लगाया जाये। साथ ही शव नहीं उठाने देने की चेतावनी भी गांव वालों ने दी। एएसपी ने ग्रामीणों को एफआईआर देने के लिए समझातेहुये कहाकि बदमाश जो भी हो बख्शा नहीं जायेगा। उसे सजा दिलाई जायेगी। इस पर हंगामा शांत हो गया। 

Popular posts from this blog

भीलवाड़ा नगर परिषद चुनाव : भाजपा ने 31, कांग्रेस ने 22 और निर्दलीय ने जीती 17 सीटें, बोर्ड के लिए जोड़ तोड़

सिपाहियों के कातिल जोधपुर और बाड़मेर के, एक फौजी भी शामिल !

वीडियो कोच ने स्कूटर को लिया चपेट में, दो बहनों की मौत, भाई घायल, बागौर में शोक