कुछ देर में बदलने वाला है मौसम का मिजाज, आसमान में छाए काले बादल, होगी बारिश


नई दिल्ली। दिल्ली-एनसीआर में रविवार की दोपहर मौसम का मिजाज बदल गया। दोपहर 12 बजे आसमान में काले बादल छाने लगे। 12.30 बजते-बजते आसमान और भी घना हो गया, आसमान को देखकर प्रतीत होने लगा कि काफी तेज बारिश होगी और इसका समय भी काफी रहेगा। हालांकि मौसम विभाग की ओर से पूर्व में ही रविवार और सोमवार को बारिश की संभावना जताई गई है।

इससे पहले शनिवार का मौसम मिलाजुला रहा। कुछ इलाकों में हल्की बूंदाबांदी भी हुई थी मगर तेज बारिश कहीं नहीं हुई। शनिवार की दोपहर में उमस भरी गर्मी भी थी। वैसे दिल्ली में इस माह में अब तक 413.3 मिलीमीटर बारिश रिकार्ड की जा चुकी है। इससे पहले वर्ष 1944 में सितंबर माह में 417.3 मिलीमीटर बारिश रिकार्ड की गई थी। इस लिहाज से चार मिलीमीटर बारिश अधिक हो जाने पर बारिश का रिकार्ड ही टूट जाएगा। दिल्ली में इस साल अब तक कुल 1169.7 मिलीमीटर बारिश हो चुकी है, जो वर्ष 1964 के बाद सबसे ज्यादा है। मौसम विभाग के रिकार्ड के अनुसार इससे पहले साल 1964 में 1190.9 मिलीमीटर बारिश हुई थी।

मौसम विभाग की ओर से रविवार व सोमवार को ध्यान में रखते हुए पहले ही येलो अलर्ट जारी किया जा चुका है। यदि इन दो दिनों में अगर अच्छी बारिश हुई तो सितंबर माह में इस साल से पहले वर्ष 1944 में हुई अधिक बारिश का रिकार्ड टूट जाएगा। वैसे भी इस बार अब तक जितनी बारिश हो चुकी है वो अपने आप में एक रिकार्ड ही है। बारिश की वजह से पूरे देश में तमाम जगहों पर बुरे हालात देखने को मिले। सड़कों पर यातायात प्रभावित रहा यहां तक कि ट्रेनों के संचालन में बी परेशानी हुई। इतनी अधिक बरसात हुई कि ट्रेनों की पटरियां तक दिखनी बंद हो गई जिसकी वजह से कई रूटों पर ट्रेनें लेट चली या उनको कैंसिल तक करना पड़ा। दिल्ली-एनसीआर में थोड़ी सी अधिक बरसात से ही बुरा हाल हो जाता है। ऐसे में यदि बरसात का रिकार्ड ही टूटने वाला है तो स्थिति की गंभीरता का अंदाजा लगाया जा सकता है।

 

Popular posts from this blog

भीलवाड़ा नगर परिषद चुनाव : भाजपा ने 31, कांग्रेस ने 22 और निर्दलीय ने जीती 17 सीटें, बोर्ड के लिए जोड़ तोड़

वीडियो कोच ने स्कूटर को लिया चपेट में, दो बहनों की मौत, भाई घायल, बागौर में शोक

सिपाहियों के कातिल जोधपुर और बाड़मेर के, एक फौजी भी शामिल !