पुत्र गोवंश की रक्षा की कामना को लेकर की पूजा

 


भीलवाड़ा अंकुर हलचल-  परिवार की खुशहाली, पुत्र व गौवंश रक्षा की कामना को लेकर आज भीलवाड़ा जिले में बच्छ बारस का पर्व मनाया गया। जिसमें विभिन्न स्थानों पर गाय व बछड़ा-बछड़ी की पूजा की गई। महिलाओं ने गाय की पूंछ व पैर की पूजा कर ललाट पर महेंदी लगाई। वहीं अधिकांश घरों में मक्का व चने से बने भोजन का ही भोजन किया गया। 
           पुजा कर रही महिलाओं ने कहा कि बच्‍छ बारस के दिन गाय और बछडे की पुजा की जाती है। इसमें ऐसी मान्‍यता है कि गाय और बछडे की पुजा करने से घर मे सुख शान्ति आती है और संतानों रक्षा की होती है। इसमें गाय को वस्‍त्र ओढाकर,तिलक लगाकर उसकी आरती उतारी जाती है। फिर गाय माता से आशीर्वाद लिया जाता है। इस दिन हमें गेहूं की रोटी , कटी हुई सब्‍जी, दूध व दही का उपयोग नही करना चाहिए। इसके साथ ही आज गाय का दुध और चाकू से कटी हुए फल का  का उपयोग भी नहीं किया जाता है। 
  
               

Popular posts from this blog

भीलवाड़ा नगर परिषद चुनाव : भाजपा ने 31, कांग्रेस ने 22 और निर्दलीय ने जीती 17 सीटें, बोर्ड के लिए जोड़ तोड़

सिपाहियों के कातिल जोधपुर और बाड़मेर के, एक फौजी भी शामिल !

वीडियो कोच ने स्कूटर को लिया चपेट में, दो बहनों की मौत, भाई घायल, बागौर में शोक