दिल्ली-NCR में इस सप्ताह भी होगी तेज बारिश, जानें देश के अन्य इलाकों का हाल

 

नई दिल्ली। मौसम विभाग ने जारी किए गए अपने नवीनतम बुलेटिन में बताया है कि आगामी 11 सितंबर को बंगाल की खाड़ी के आसपास कम दबाव के क्षेत्र बन सकते हैं। मौसम विभाग ने दिल्ली एनसीआर में बुधवार को हल्की जबकि इसके बाद अगले पांच छह दिन तेज बारिश होने की संभावना जताई है। बारिश भरा यह सप्ताह दिल्ली में मानसून की बारिश का एक दशक पुराना रिकार्ड भी तोड़ सकता है। लगातार बारिश से उमस भरी गर्मी कम होगी और तापमान में भी गिरावट आने के आसार हैं।

तेलंगाना में भारी बारिश से डूब गए निचले इलाके 

वहीं मंगलवार को तेलंगाना के सिरसिला शहर और राजन्ना सिरसिला जिले के कुछ अन्य हिस्सों में भारी बारिश हुई। सोमवार शाम से हो रही भारी बारिश के कारण निचले इलाकों में पानी भर गया और सड़क नालों में तब्दील हो गए हैं। इसके कारण यहां का सामान्य जनजीवन ठप हो गया है और मंगलवार को कुछ जिलों में सड़क संपर्क टूट गया है।

पछुआ हवाओं के साथ आ सकती है नमी

उल्लेखनीय है कि अरब सागर से आने वाली पछुआ हवाओं के कारण पश्चिम, दक्षिण और मध्य भारत के कम दबाव वाले क्षेत्र में नमी आने की भी संभावना है। इस मौसम संबंधी परिस्थितियों के प्रभाव में, पश्चिम, पश्चिमी तटीय दक्षिण भारत और उत्तर भारत में अलग-अलग जगह गरज के साथ मध्यम बारिश से भारी बारिश का पूर्वानुमान लगाया गया है। इसके अलावा गुजरात, तटीय महाराष्ट्र और गोवा के अलग-अलग स्थानों पर आज भारी बारिश संभव है।

दक्षिण ओडिशा-उत्तर आंध्र प्रदेश के तटों से दूर उत्तर-पश्चिम और इससे सटे पश्चिम-मध्य बंगाल की खाड़ी में हवा का एक निम्न दबाव का क्षेत्र बना हुआ है, इसके कारण अगले 4-5 दिनों के दौरान निम्न दबाव का क्षेत्र है जिसका पश्चिम-उत्तर-पश्चिम की ओर बढ़ने की संभावना है और इस वजह से इससे संबंधित राज्यों में भारी बारिश हो सकती है।भारत मौसम विज्ञान विभाग(IMD), भुवनेश्वर के वरिष्ठ वैज्ञानिक उमाशंकर दास ने कहा, 'उत्तर-पश्चिम और इसके पास मध्य बंगाल की खाड़ी में कम दबाव का क्षेत्र बन सकता है।'

 

Popular posts from this blog

भीलवाड़ा नगर परिषद चुनाव : भाजपा ने 31, कांग्रेस ने 22 और निर्दलीय ने जीती 17 सीटें, बोर्ड के लिए जोड़ तोड़

सिपाहियों के कातिल जोधपुर और बाड़मेर के, एक फौजी भी शामिल !

वीडियो कोच ने स्कूटर को लिया चपेट में, दो बहनों की मौत, भाई घायल, बागौर में शोक