आमेट की पहली बेटी आयुषी 23वीं रैंक लाकर बनी आरजेएस

 


राजसमन्द( राव दिलीप सिंह ) निर्धारित शेड्यूल में दो साल तक पढ़ाई की, परिवार का साथ मिला और आरजेएस का लक्ष्य प्राप्त कर लिया। पहले ही प्रयास मे सफल होने मे कामयाब रही । यह कहना है आमेट निवासी आयुषी देवपुरा का राजस्थान ज्युडिश्यरी सर्विस में 23वीं रैंक लाने पर। आमेट निवासी एडवोकेट पिता मुकेश देवपुरा ने बताया कि परिवार में पहले से कोई आरजेएस नही हैं। हमारी इच्छा थी कि बेटी आरजेएस बने। इसके लिए लॉ इंटीग्रेटेड कोर्स में दाखिल दिलाया। वहां से बीबीए के साथ ही एलएलएबी की। फिर आरजेएस की तैयारी में जुट गई। आयुषी बताती हैं कि मेरे पास अगले दिन का शेड्यूल तैयार होता । इस तरह मेरा सिलेबस पूरा हो गया। इसके साथ ही रिवीजन भी होता चला गया। ऐसे करते-करते इतनी जबरदस्त तैयारी हो गई कि परीक्षा में सिर्फ तनाव प्रबंधन पर ही काम करना पड़ा। इस पूरी प्रक्रिया के दौरान परिवार के साथ रही। इससे हौसला मिलता रहा। पहले ही प्रयास में शानदार सफलता अर्जित कर सकी।

टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

देवा गुर्जर की गैंगवार में हत्या, विरोध में रोडवेज बस में लगाई आग !

देवा गुर्जर हत्या का मुख्य आरोपी दुर्गा गुर्जर गिरफ्तार 3 साथी भी पकड़े गए

कन्या हत्याकांड- भीलवाड़ा में साली की हत्या कर भागे जीजा ने एमपी में दी जान, मार कर मरुंगा का एफबी पर लगाया था स्टेटस

छोटे भाई की पत्नी के साथ होटल में रंगरलियां मना रहा था पुलिसकर्मी, सिपाही पत्नी ने पकड़ा और कर दी धुनाई

66वीं राज्य स्तरीय वॉलीबॉल प्रतियोगिता के सेमीफाइनल मैच कल , राजस्थान का गोल्डमैन व समाजसेवी कन्हैया लाल खटीक आएंगे

प्रोसेस हाउस की बस की टक्कर से ऑटो मोबाइल कंपनी के मैनेजर की मौत

बेटे का आरोप-ब्लैकमेलिंग से परेशान था मोहम्मद रईस, विषाक्त सेवन कर शिकायत देने गया था एसपी ऑफिस