जिले में मौसमी बीमारियों की रोकथाम व बचाव हेतु चिकित्सा विभाग कर रहा एन्टीलार्वल गतिविधियां

 


भीलवाडा। जिले में बरसात के बाद ठहरे व घरों के आसपास के भरे पानी के क्षेत्रों में मच्छरों के पनपने के साथ हीं डेंगू, मलेरिया एवं स्क्रब टाइफस आदि मौसमी बीमारियों की फैलने की संभावना के चलते चिकित्सा विभाग द्वारा जिले ग्रामीण व शहरी क्षेत्रा में 3 सितम्बर, 2022 तक घर-घर जाकर सर्वे कर एन्टीलार्वल गतिविधियों का संपादन किया जा रहा है। जिले में मौसमी बीमारियां अपने पांव ना पसारे इसके लिए अभियान के मार्फत चिकित्सा विभाग द्वारा मौसमी बीमारियों के बचाव व रोकथाम हेतु पुख्ता इंतजाम किये जा रहे है।
मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मुस्ताक खान ने बताया कि जिले  में मौसमी बीमारियों डेंगू व मलेरिया बचाव को लेकर विभागीय कार्मिकों के द्वारा सक्रियता निभाकर घर-घर जाकर एन्टीलार्वल गतिविधियां संपादित की जा रही है। इसके लिए जिले 844 गठित टीमें घर-घर जाकर मरीजों की स्क्रीनिंग कर एन्टीलार्वल गतिविधियां संपादित करने का कार्य कर रही है। सर्वे के दौरान विभाग की नर्सिंग विद्यार्थियों, एएनएम व आशाओं की गठित टीमों के द्वारा जिले में अब तक 3 लाख 28 हजार 535 घरों का सर्वे किया गया। इस दौरान 6859 घरों में लार्वा पाया गया और 101796 पात्रों को खाली कर मौके पर हीं निस्तारण किया गया। इस दौरान 1291 बुखार के रोगियों का पता लगाकर ब्लड स्लाईड लेकर उपचार उपलब्ध करवाया गया।
             उप मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. घनश्याम चावला ने बताया कि इसी क्रम में शहर में बढती मौसमी बीमारियों मलेरिया, डेगूं विशेष बचाव को लेकर जिले के शहरी क्षेत्रा में विशेष अभियान के तहत 200 टीमें बनाकर 61982 घरों का सर्वे किया गया जिसमें 5931 लार्वा वाले घर पाये गये जहां 9640 पात्रों को खाली कर निस्तारित किया गया। इस दौरान घरों में भरी हुई टंकियों एवं पशुओं की खेड में, पानी पीने के पात्रों में टेमिफोस डाला जा रहा है तथा अनावश्यक टायर, बर्तन पक्षियों के परिंडों, कूलरों में भरे पानी को खाली करवाया गया जिससे की को मच्छर पनपने वाले लार्वा पैदा न हो और शहर में बीमारी न फैले। इस दौरान चिकित्सा विभाग की टीमों ने मौसमी बीमारियों के प्रति आमजन को जागरूक करने के लिए आईईसी प्रचार सामग्री पम्पलेट्स वितरण कर जागरूकता फैलाई जा रही है तथा टीमों द्वारा मौसमी बीमारियों के बचाव हेतु आवश्यक सावधानियां बरतने के साथ हीं घरों में हर सप्ताह पानी के पात्रों को खाली कर सूखा दिवस मनाने में चिकित्सा विभाग का सहयोग करने के लिए आमजन से अपील की जा रही है।

टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

महिला से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में एक आरोपित गिरफ्तार

घर-घर में पूजी दियाड़ी, सहाड़ा के शक्तिपीठों पर विशेष पूजा अर्चना