मूलभूत सुविधाओं की मांग, जिला कलेक्ट्रेट पर विरोध प्रदर्शन कर सौंपा ज्ञापन

 


-वार्ड नं 43 व 26 के लोगों ने किया विरोध प्रदर्शन 
 -गोकुलम विलाज़, राधे नगर, गोकुल विहार व जे के विहार कॉलोनी में समस्याओं का अंबार
- कॉलोनी के सभी सदस्यों ने आगामी चुनाव में मतदान बहिष्कार की दी चेतावनी

मूलचन्द पेसवानी
भीलवाड़ा। नगर परिषद के वार्ड नं 43 वैभव नगर में स्थित गोकुलम विलाज़ कॉलोनी व वार्ड नंबर 26 राधे नगर कॉलोनी के बाशिंदों ने मूलभूत सुविधाओं की मांग को लेकर मंगलवार को जिला कलेक्ट्री पर विरोध प्रदर्शन कर जिला कलेक्टर आशीष मोदी को ज्ञापन सौंपा। राधे नगर, गोकुलम विलाज, गोकुल विहार व जेके विहार कॉलोनीवासियों द्वारा नगर परिषद और नगर विकास न्यास पर अनदेखी का आरोप लगाकर प्रदर्शन किया गया। गोकुलम विलाज कॉलोनी के कई सदस्य वार्ड नं 43 की पार्षदा इंदु बंसल से भी खासे खफा नजर आए। लोगों द्वारा स्थानीय पार्षदा इंदु बंसल पर भी चुनाव में किए गए वादों को भूलकर वादाखिलाफी एवं नजर अंदाज करने के आरोप लगाए गए। कॉलोनी वालों ने पहले भी कई बार स्थानीय पार्षद, नगर परिषद एवं नगर विकास न्यास को इस मामले में अवगत करवाया परंतु तीनों द्वारा हमेशा की तरह नजर अंदाज करना ही मुनासिब समझा। सभी कॉलोनी वासियों द्वारा समस्याओं के समाधान नही होने पर आगामी चुनाव में मतदान बहिष्कार की  चेतावनी दी गयी। शंकर सोमानी व पंकज आडवाणी ने बताया कि कॉलोनी में पिछले 7-8 वर्षों से लोग निवासरत है, लेकिन उनको मूलभूत सुविधाओं के नाम पर कुछ भी नही मिल पा रहा है। सालासर बालाजी मंदिर के सामने वाली गली से कॉलोनी तक आने वाली मुख्य सड़क जर्जर अवस्था में है, जिससे अब तक कई लोग चोटिल हो चुके है, सफाई व्यवस्था के नाम पर कॉलोनी में कुछ भी नही है, नगर परिषद के सफाई कर्मचारी आते नही है, ऑटो टिपर अपनी इच्छानुसार कभी आते है-कभी नही, कॉलोनी में विद्युत पोल लगे हुए पर है पर उनपर लाइट नही लगी होने से अनुपयोगी साबित हो रहे है। चंबल के पानी से तर होने के लिए यहां के बाशिंदों  के कंठ कई वर्षों से प्रतीक्षा में है। पूरे शहर की तरह आवारा पशुओं की समस्या यहां पर  भी है। वहीं आवारा पशु एवं जर्जर सड़क ही हमे इस शहर का हिस्सा होने का एहसास करवाते है बाकी शहर के मुताबिक सुविधाओं के नाम पर हमारे पास कुछ नही है।

टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

घर-घर में पूजी दियाड़ी, सहाड़ा के शक्तिपीठों पर विशेष पूजा अर्चना

महिला से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में एक आरोपित गिरफ्तार