लुटेरी गैंग का खुलासा-शिकंजे में शातिर, मुख्य साजिशकर्ता सहित तीन गिरफ्तार, नाबालिग निरुद्ध, 5 दिन में दे चुके लूट व डकैती की 10 वारदातों को अंजाम

 


 भीलवाड़ा राजकुमार माली। 5 दिन में शहर में एक के बाद एक लूट व डकैती की 10 वारदातों को अंजाम देकर शहर ही नहीं आस-पास के इलाकों में दहशत का पर्याय बनी लुटेरी गैंग आखिरकार पुलिस के शिकंजे में आ ही गई। मुख्य साजिशकर्ता सहित तीन बदमाशों को  पुलिस ने बापर्दा गिरफ्तार, जबकि एक बाल अपचारी को निरुद्ध किया है। इस गैंग का खुलासा, पुलिस अधीक्षक आदर्श सिद्धू ने पुलिस अधीक्षक कार्यालय के सभागार में आयोजित प्रेसवार्ता में किया। बता दें कि इस गैंग ने इन दस वारदातों को मात्र 5 दिन में अंजाम दिया था। 

पुलिस अधीक्षक सिद्धू ने कहा कि 1 नवंबर को एक ऐसी गैंग ने शहर में दस्तक दी, जो आमजन, व्यापारियों, डेयरी संचालकों व संत सहित कई लोगों पर हमला कर लूटपाट कर रही थी। इस गैंग ने सबसे ज्यादा 5 नवंबर की रात से सुबह सवा पांच बजे तक वारदातों को अंजाम देकर लूटपाट की थी। कई लोगों के साथ इस दौरान इन बदमाशों ने मारपीट व जानलेवा हमला भी किया। 
हमले व लूट की इन वारदातों की गंभीरता को देखते हुए अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक (मुख्यालय) ज्येष्ठा मैत्रयी के निर्देशन, डीएसपी सिटी नरेंद्र दायमा, डीएसपी सदर रामचंद्र चौधरी के सुपरविजन में वारदात के शीघ्र खुलाासे एवं आरोपितों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस थानों के जाबते, डीएसटी व साइबर सैल की संयुक्त टीम का गठन किया गया। टीम ने 24 घंटे के भरसक प्रयास  और बिना सोये जांच-पड़ताल व छानबीन करते हुये तीन बदमाशों को गिरफ्तार और एक बाल अपचारी को निरुद्ध कर लिया। इनके एक साथी की अभी भी पुलिस को तलाश है। 
 ये है लुटेरी गैंग
राकेश 19 पुत्र नारायण बलाई माताजी का खेड़ा, सुवाणा, सुनील 20 पुत्र सुरेश कुमार धोबी बड़ा मंदिर के पास सुवाणा, गोलु कोली 18 पुत्र सत्यनारायण कोली मोक्षधाम के पीछे दादाबाड़ी।   

 अपने मौज-शौक और नशे की लत पूरी करने लोगों का बहा रहे थे खून
लूट गैंग में शामिल अपराधी, अपने मौज-शौक की पूर्ति, नशे की लत पूरी करने व आसान तरीके से पैसा कमाने के लिए वारदातों को अंजाम दे रहे थे। ये बदमाश, रात में सुनसान इलाकों में अकेल मिलने वाले लोगों पर हमला कर न केवल उनका खून बहा रहे थे, बल्कि नकदी, मोबाइल आदि भी लूटकर ले जा रहे थे। खास बात यह है कि ये बदमाश वारदातों को अंजाम देकर सुबह दिन निकलने से पहले अपने ठिकानों पर पहुंच जाते थे।  

 5 दिन में इन 10 लूट व डकैती की वारदातों को दिया अंजाम

एक नवंबर को शहर में अचानक दस्तक देने वाली एक लुटेरी गैंग ने 5 नवंबर तक लूट व डकैती की 10 वारदातों को अंजाम दिया। इनमें प्रमुख रुप से  डेयरी संचालको से लूट, कामधेनू बालाजी के संत पर जानलेवा हमला आदि प्रमुख है। 
1.  प्रतापनगर थाना क्षेत्र में 3 नवंबर को महाप्रज्ञ सर्किल पर डेयरी बुथ संचालक पर अलसुबह जान से मारने की धमकी देक 21 हजार  रुपये व एक मोबाइल की लूट। 
2. 3 नवंबर को ही इसी थाना क्षेत्र में ऋषि वाटिका आजाद नगर मे डेयरी बुथ संचालक पर अलसुबह जानलेवा हमला कर 11 हजार रुपये लुटे। 
3.  सुभाषनगर  थाना क्षेत्र मे 3 नवंबर को गायत्री आश्रम के पास राहगीर पर नुकिलें हथियार व डंडो से जानलेवा हमला कर 30 हजार रूपये व मोबाइल लूटा।  
4.  सुभाषनगर  थाना क्षेत्र में 4 नवंबर को सुखडिया सर्किल के पास टेम्पू चालक पर नुकिलें हथियार व डंडो से जानलेवा हमला कर 10 रूपये छीने। 
5.  प्रतापनगर थाना क्षेत्र में  5 नवंबर को लेबर कॉलोनी मे मॉर्निंग वॉक पर निकले बैंककर्मी  के साथ मारपीट । 
6.  प्रतापनगर थाना क्षेत्र में  5 नवंबर को मिर्ची मण्डी शमशान घाट के पास नींबु मिर्च बैचने वाले व्यक्ति के साथ लौहे के सरियों व डंडो से हमला कर मोबाइल लुटा।  
7.  प्रतापनगर  थाना क्षेत्र में  5 नवंबर को लैण्डमार्क होटल के पास  एक  यात्री  पर लौहे के सरियों व डंडो से जानलेवा हमला कर अटैची व सामान लुटा।  
8. सदर थाना क्षेत्र में 5 नवंबर को कोठारी नदी कोटा रोड के पास स्थित कामधेनू मन्दिर के संत पर लौहे के सरियों व डंडो से जानलेवा हमला कर कीमती समान मालाऐ लूटी।
9.सदर थाना क्षेत्र में 5 नवंबर को ब्यावर चुंगी नाका सुखाडिया सर्किल के पास कंबल बेचने वाले व्यक्ति पर जानलेवा हमला किया।  
10. सुभाषनगर थाना  क्षेत्र में 5 नवंबर को गुलाब बाग के पास डेयरी संचालक पर हथियार व डंडो से जानलेवा हमला कर 13 हजार रूपये छिनकर फरार हुये।

 ये है 2 आरोपितों के अपराध का चिट्टा
1. आरोपित राकेश बलाई- चोरी, नकबजनी के चार मामले सुभाषनगर में 2, मांडलगढ़, बीगोद व सदर में एक-एक प्रकरण दर्ज ।
2.आरोपित सुनील धोबी- के खिलाफ भी चोरी व नकबजनी के पांच मामले दर्ज हैं। इनमें गंगरार चित्तौडग़ढ़,  भीलवाड़ा के सुभाषनगर, मंगरोप, कोटड़ी व मांडलगढ़ थाने में एक-एक मामला दर्ज है। 

 ये टीम लगी थी बदमाशों के पीछे
 प्रताप नगर थाना प्रभारी राजेन्द्र कुमार गोदारा, नन्द लाल रिणवा थानाधिकारी सुभाषनगर,कोतवाल मुकेष वर्मा, एसआई बलवीर खान,मोतीराम, एएसआई उदयलाल, दीवान सुनिल कुमार,अषोक कुमार, सती्रश , धीरज,रामनिवास, रविन्द्र, महावीर, असलम, सुरेष कुमार,महेन्द्र कुमार ,  विनोद कुमार, रतनलाल , नरेश सचदेव , बलवीर्र शिवराज, हीरा लाल,भूपेन्द्र ,  शंभू, अमृत डी.एस.टी से  एसआई जगदीष चन्द,नाथू सिंह,  करण सिंह,पवन, सोनू  दिलीप, विजय,  रिषीकेश, प्रताप, राधेष्याम, आषीष कुमार मिश्रा सउनि,  दीपक जागींड सत्यनारायण , चन्द्रपाल सिंह, कमलश  पिन्टू छोटू लाल व प्रदीप ।  

टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

देवा गुर्जर की गैंगवार में हत्या, विरोध में रोडवेज बस में लगाई आग !

देवा गुर्जर हत्या का मुख्य आरोपी दुर्गा गुर्जर गिरफ्तार 3 साथी भी पकड़े गए

कन्या हत्याकांड- भीलवाड़ा में साली की हत्या कर भागे जीजा ने एमपी में दी जान, मार कर मरुंगा का एफबी पर लगाया था स्टेटस

छोटे भाई की पत्नी के साथ होटल में रंगरलियां मना रहा था पुलिसकर्मी, सिपाही पत्नी ने पकड़ा और कर दी धुनाई

गंगरार कस्बे में कुए में मिली लाश की हत्या का खुलासा, प्रेमी से मिलकर बहिन ने करवाई थी भाई की हत्या,

डांग के हनुमान मंदि‍र के सरजूदास दुष्‍कर्म के आरोप में गि‍रफ्तार, खाये संदि‍ग्‍ध बीज, आईसीयू में भर्ती

प्रोसेस हाउस की बस की टक्कर से ऑटो मोबाइल कंपनी के मैनेजर की मौत