सुरावास के युवक का 9 घंटे बाद परिजनों ने उठाया भीलवाड़ा मोर्चरी से शव, 11 लाख की सहायता

 

 

 गंगापुर (सुरेश शर्मा)

 करंट लगने से युवक की मौत होने के बाद परिजनों को 11 लाख की सहायता राशि का चेक देने के बाद हुआ समझौता। 9 घंटे के बाद परिजनों ने उठाया मोर्चरी से शव, सुरावास गांव में युवक का हो रहा है दाह संस्कार।

निकटवर्ती ग्राम सुरावास में दिनांक 15 मार्च को ठेकेदार के यहां काम करने वाले श्रमिक द्वारा गांव के मुख्य चौराहे पर डीपी को बदलने का कार्य किया जा रहा था। अचानक करंट का झटका लगने के कारण शंकर सिंह पिता नाथू सिंह उम्र 40 साल निवासी धागडास ( सुरावास) बिजली के पोल से नीचे गिर पड़ा। गंभीर घायल युवक को भीलवाड़ा महात्मा गांधी चिकित्सालय रेफर किया गया। भीलवाड़ा चिकित्सकों ने युवक को मृत घोषित कर दिया। सुरावास ग्रामीणों व परिजनों ने युवक का शव लेने से इनकार कर दिया। सुरावास सरपंच कृष्ण गोपाल अहिर, सहाड़ा भाजपा प्रत्याशी रूप लाल जाट, गंगापुर थाना प्रभारी राजूराम पलासिया, हेड कांस्टेबल राम रतन आचार्य, बिजली विभाग के अधिकारियों व ठेकेदार के बीच वार्ता कर परिवार जनों को 11 लाख रुपए की सहायता राशि दिलवाकर समझौता करवाया गया। 9 घंटे तक चले वार्ता के दौर के बाद परिजनों को 11लाख रूपए  का चेक विद्युत विभाग द्वारा देने के बाद ही परिजनों ने मोर्चरी से मृतक का शव उठाया। दिनांक 16 मार्च को मृतक युवक शंकर सिंह का पैतृक गांव धागडास में हो रहा है अंतिम संस्कार। मृतक के परिवार की माली हालत होने पर क्षेत्र के जनप्रतिनिधियों ने सहायता राशि दिलवाने की ठेकेदार व विद्युत विभाग से की थी मांग। मृतक के दाह संस्कार में परिजनों, रिश्तेदारों सहित गांव के ग्रामीण व जनप्रतिनिधि भी पहुंचे।

 

टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

देवा गुर्जर की गैंगवार में हत्या, विरोध में रोडवेज बस में लगाई आग !

देवा गुर्जर हत्या का मुख्य आरोपी दुर्गा गुर्जर गिरफ्तार 3 साथी भी पकड़े गए

वीडियो कोच ने स्कूटर को लिया चपेट में, दो बहनों की मौत, भाई घायल, बागौर में शोक

शराब के नशे में महिला सहित 4 लोगों ने किया तमाशा वीडियो वायरल

आदर्श तापड़िया मर्डर: परिजनों से समझाइश का दूसरा दौर शुरू

मांडल में विवादित कुर्क जमीन मामले को लेकर जुटी भीड़, पुलिस ने लाठियां भांज कर दो किलोमीटर तक खदेड़ा,बाजार बंद

हत्या पर हंगामा, देवा गुर्जर के समर्थकों ने फूंकी बस, मॉर्चरी के बाहर बरसाए पत्थर