आन्तरिक विकास शुल्क माफ करने से अब सोमोटो क्षेत्र में बनने लगेंगे पट्टे, छोटे भूखण्डों पर 40 हजार रु. तक का होगा फायदा

 


भीलवाड़ा (हलचल)। नगर विकास न्यास सोमोटो स्कीम के तहत पट्टे बनाने वाले लोगों को 40 हजार रुपए करीब की राहत देने जा रही है। यह योजना सोमवार से लागू होगी। राजस्व मंत्री रामलाल जाट के प्रयास से यह राहत मिलेगी।
नगर विकास न्यास के अध्यक्ष और जिला कलक्टर आशीष मोदी ने सरकार के निर्देश पर भीलवाड़ा नगर विकास न्यास में 2018 के बाद के सोमोटो के तहत पट्टे बनाने पर 25&४० के भूखण्डों पर करीब 82 हजार रुपए का शुल्क लग रहा था जबकि भूखण्ड की कीमत इससे भी आधी थी। ऐसे में जोधड़ास व आस पास के क्षेत्र के लोगों ने राजस्व मंत्री रामलाल जाट से राहत दिलाने की मांग की। जाट ने यह मामला राज्य सरकार के समक्ष रखा। जहां से सभी जिला मुख्यालय पर यह निर्देश दिए गए कि नगर विकास न्यास अपने स्तर पर इसमें राहत दे सकते है। इसी के तहत भीलवाड़ा नगर विकास न्यास ने आन्तरिक विकास शुल्क को माफ करने का फैसला किया। यह शुल्क प्रति वर्ग मीटर 400 रुपए से अधिक का था। 
न्यास की विशेषाधिकारी रजनी माधीवाल ने बताया कि जिला कलक्टर और न्यास अध्यक्ष की स्वीकृति के बाद अब सोमोटो के तहत बनने वाले पट्टों में आन्तरिक शुल्क सोमवार से माफ किया जाएगा। जिसके चलते एक हजार वर्ग फीट के भूखण्डों के पट्टे बनाने पर लोगों को करीब आधा शुल्क ही चुकाना पड़ेगा। पहले जहां 82 हजार रुपए करीब लग रहे थे अब 39 हजार 500 रुपए की छूट के बाद उन्हें 42 हजार के लगभग शुल्क देना होगा। यह लोगों के लिए सरकार द्वारा लिया गया फैसला बड़ा साबित होगा। अब तक ऐसे क्षेत्रों में पट्टे नहीं बन पा रहे थे अब पट्टे बनने लगेंगे। 

टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

देवगढ़ से करेड़ा लांबिया स्टेशन व फुलिया कला केकड़ी मार्ग को स्टेट हाईवे में परिवर्तन करने की मांग

महिला से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में एक आरोपित गिरफ्तार