धूमधाम से मनाया जा रहा है गुरूनानक देवजी का 553वां प्रकाश पर्व

 

भीलवाड़ा (प्रहलाद तेली)। सिक्ख धर्म के संस्थापक गुरूनानक देव की 553वां प्रकाश पर्व सिंधुनगर स्थित गुरूद्वारा में धूमधाम से मनाया जा रहा है। गुरूनानक देव ने समूची मानव जाति को दया, प्रेम व सेवा का संदेश दिया। जांति पांति के भेद को मिटाते हुए लंगर जैसी पावन प्रथा को प्रारंभ किया। 
ऋषिपाल सिंह ने बताया कि सुबह पांच बजे से ही संतों द्वारा गुरू वाणी कीर्तन किये जा रहे है जो दो बजे तक चलेंगे। इसके बाद लंगर का आयोजन रखा गया है। रात्रि में भी कीर्तन होंगे और आतिशबाजी की जायेगी। 

टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

महिला से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में एक आरोपित गिरफ्तार

घर-घर में पूजी दियाड़ी, सहाड़ा के शक्तिपीठों पर विशेष पूजा अर्चना