राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा की राह राजस्थान में नहीं आसान रास्ते में रुकावट बन रहे हैं ये 7 ब्रेकर

 

राहुल गांधी की राजस्थान में भारत जोड़ो यात्रा सबसे ज्यादा सुखद होनी चाहिए। सब कुछ अच्छे से होना चाहिए। आखिर देश मे राजस्थान ही कांग्रेस का सबसे बड़ा गढ़ जो है। लेकिन वैसा होता नहीं दिख रहा है। यात्रा को लेकर सबसे ज्यादा टेंशन ही यहां पर हो रही है, इसलिए ही तो दिल्ली से भी नेता राजस्थान आ रहे हैं यात्रा से पहले सब कुछ देखने जांचने के लिए। वास्तव में यात्रा आसान नहीं है, इसमें क्या परेशानी आ सकती है। 7 बिंदुओं से आप समझ सकते हैं.....

1 - पहली सबसे बड़ी परेशानी है गुर्जर...। यात्रा 13 जिलों से गुजरेगी और इन जिलों में से अधिकतर गुर्जर बाहुल इलाके हैं। गुर्जर नेता विजय बैंसला ने बीड़ा उठाया है कि सरकार या तो आरक्षण पर स्थिति साफ करे नहीं तो यात्रा मे जो भी कुछ होगा हमारी जिम्मेदारी नहीं है। 

2 - यात्रा में बीजेपी वाले भी गुपचुप तैयारी कर रहे हैं कि जिस जिले से यात्रा निकलेगी उस जिले में सरकार और कांग्रेस के खिलाफ माहौल बनाएंगे। पोस्टर, बैनर और अन्य तरीकों से सरकार को घेरने के प्लान बन रहे हैं। 

3 - गहलोत और पायलेट गुट के नेताओं की बदजुबानी इस यात्रा में एक और ब्रेकर है। दोनो गुट के नेता बिना सोचे समझे बयानबाजी कर रहे हैं और इससे परेशानी होना तय माना जा रहा है। 

4 - सीएम और सचिन पायलेट दोनो नेता अपने अपने समय पर यात्रा की अगुवाई करेंगे, अभी तक यह तय नहीं हो सका है कि कौन ज्यादा राहुल गांधी के साथ रहेगा। दोनो ही गुटों को यह डर है कि जो भी ज्यादा नजदीक रहेगा वह दूसरे गुट के खिलाफ माहौल नहीं बना दे, आखिर सीएम की कुर्सी का जो सवाल है। 

5 - यात्रा से ठीक पहले सीएम का बयान सामने आया है जिसमें पायलेट को गद्दार बोला है, इस बयान पर भाजपा के नेताओं ने बयानबाजी शुरु कर दी है और दोनो ही नेताओं को घेरना शुरु कर दिया है। 

6 - अगली चुनौती है बेरोजगारों की, प्रदेश में बेरोजगारों के नेता उपेन यादव को तो पुलिस ने पहले ही जेल भेज दिया है, लेकिन यादव से जुड़े हजारों नेता बाहर हैं जो राहुल गांधी के रुट पर उनसे मिलने की कोशिश कर सकते हैं। 

7 - ये दो नाम सबसे बड़ा ब्रेकर साबित हो सकते हैं। इनमें पहला है किरोड़ी लाल मीणा और दूसरा नाम है हनुमान बेनीवाल। दोनो ही इस यात्रा को लेकर पहले ही कई बार बयानबाजी कर चुके हैं। दोनो ही मास नेता है और अपने बयानों को लेकर जाने जाते हैं। हाल ही में बेनीवाल विधायक दिव्या और राहुल गांधी के खिलाफ अर्नगल बयानबाजी कर चुके हैं।

टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

देवगढ़ से करेड़ा लांबिया स्टेशन व फुलिया कला केकड़ी मार्ग को स्टेट हाईवे में परिवर्तन करने की मांग

महिला से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में एक आरोपित गिरफ्तार