निर्वाचन कार्य पूरा करने के लिए बीएलओ को विद्यालय से कार्यमुक्ति का लेना पड़ा निजी अवकाश

 


शाहपुरा (किशन वैष्णव) राजस्थान समग्र शिक्षक संघ भीलवाड़ा के जिलाध्यक्ष बतौर विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र शाहपुरा की भाग सं.123 के बीएलओ रामधन बैरवा ने निर्वाचन कार्य को पूरा करने हेतु 1 दिसंबर 2022 से 8 दिसम्बर 2022 आधा समय विद्यालय से कार्यमुक्ति के लिए आकस्मिक अवकाश स्वीकृत कराये है।बैरवा का कहना है कि निर्वाचन विभाग द्वारा 9 नवम्बर 22 से 8 दिसम्बर 22 तक मतदाता सूची पुनरीक्षण कार्यक्रम प्रारंभ किया गया है। जिसके अनुसार बीएलओ से  मतदाता सूचियों में नाम जोड़ने,नाम हटाने व संशोधन करने का कार्य किया जा रहा है। जबकि बीएलओ को विद्यालय /कार्यालय में पूर्ण रूप से ड्यूटी के साथ अन्य विभाग से संबंधित कार्य भी करना पड़ता है। शीतकाल में सुबह-शाम समय कम मिलने से निर्वाचन कार्य का लक्ष्य अर्जित नहीं हो पा रहा है। तथा निर्वाचन विभाग का बार-बार दबाव पड़ रहा है। बैरवा ने यह भी बताया कि मैंने समग्र शिक्षक संघ की ओर से उप जिला निर्वाचन अधिकारी एवं स्थानीय  विधानसभा निर्वाचन अधिकारी  को पत्र लिखकर बीएलओ को विद्यालय कार्यालय समय से आधा समय मुक्त कराने पत्र लिखा था । इसके उपरांत राजस्थान समग्र शिक्षक संघ द्वारा शाहपुरा में आयोजित राज्य स्तरीय शैक्षिक सम्मेलन में 25 नवंबर को संगठन के दर्जनों पदाधिकारियों सहित बीएलओ द्वारा कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि रहे अध्यक्ष व राज्य मंत्री राज्य बीज निगम, राजस्थान सरकार जयपुर को मांग पत्र के माध्यम से  मांग की थी जिस पर अध्यक्ष द्वारा स्थानीय निर्वाचन के अधिकारी को आवश्यक दिशा-निर्देश दिए थे।फिर भी आदेश नहीं होने से मैं भी आहत हूं तथा अन्य बीएलओ भी आहत हैं।जिले में माण्डलगढ व जहाजपुर निर्वाचन क्षेत्र में आधा समय के आदेश जारी कर बीएलओ को राहत प्रदान की गई है।अब ऐसा महसूस हो रहा है कि निर्वाचन विभाग की हठधर्मिता के सामने हमारे पास स्वयं के अवकाश के अलावा कोई चारा नहीं है।अब बीएलओ जाग रहा है । यदि निर्वाचन विभाग द्वारा बीएलओ का सहयोग नहीं किया गया तो बीएलओ मजबूर होकर आन्दोलन की राह पकड़ेंगे। गौरतलब है कि कोरोना काल में बीएलओ द्वारा दी गई सेवाओं को राज्य सरकार सहित प्रशासन ने भी सराहा था।

टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

महिला से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में एक आरोपित गिरफ्तार

देवगढ़ से करेड़ा लांबिया स्टेशन व फुलिया कला केकड़ी मार्ग को स्टेट हाईवे में परिवर्तन करने की मांग