दलित छात्र के घर जाएंगे भीम सेना अध्यक्ष, दो गांव में 700 जवान तैनात, पुलिस अलर्ट

 


जालोर में शिक्षक की कथित पिटाई से दलित छात्र की मौत का मामला अभी शांत नहीं हुआ है। पीड़ित परिवार से मिलने के लिए मंत्री, विधायकों और नेताओं का सुराणा गांव आने का सिलसिला लगातार जारी है। दलित छात्र की मौत के बाद से ही राजनीति शुरू हो गई है। कांग्रेस नेता सचिन पायलट अपनी ही सरकार पर हमलावर हैं। वहीं भाजपा भी प्रदेश की गहलोत सरकार को घेर रही है।  

इधर, पीड़ित परिवार से मिलने के लिए भीम सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष सतपाल तंवर आज जालोर के सुराणा गांव पहुंच सकते हैं। इसके अलावा एआईसीसी राष्ट्रीय सचिव प्रदीप नरवाल, मंत्री परसादी लाल मीणा सहित अन्य दलित समाज के नेताओं के आने की भी संभावना जताई जा रही है।  

हालांकि, अब तक यह साफ नहीं है कि भीम सेना और भीम आर्मी के नेताओं सहित अन्य दलित समाज के नेताओं का दौरा कब है। ऐसे में आज और कल के संभावति दौरे को लेकर प्रशासन पूरी तरह से अलर्ट है। सुराणा के पास पोषणा गांव में प्रशासन ने दो जेसीबी, एंबुलेंस, फायर ब्रिगेड और पुलिस तैनात है। नेताओं के वाहन खड़े करने के लिए यहां पार्किंग की व्यवस्था भी की जा रही है। सुरक्षा के लिए दोनों गांव में छह जिलों के 700 जवान तैनात किए गए हैं।

सचिन पायलट भी परिजनों से मिलने पहुंचे।

 

जानें, सचिन पायलट ने क्या कहा था 
पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट बीते मंगलवार को पीड़ित परिवार से मिलने सुराणा पहुंचे थे। इस दौरान उन्होंने कहा था- 'जहां तक इस घटना की बात है, यह कहना नाकाफी है कि बाकी राज्यों में ऐसा होता है। किसी राज्य में दलित, आदिवासी, असहाय के साथ ऐसा होता है तो जीरो टॉलरेंस करना पड़ेगा। हम यह नहीं कह सकते कि बाकी राज्यों में हो रहा है तो यहां पर भी हो रहा है।' सचिन पायलट का यह बयान सीएम गहलोत के उस बयान से जोड़कर देखा जा रहा है, जिसमें सीएम ने कहा था कि दूसरे राज्यों के मुकाबले बहुत अच्छी स्थिति हमारी है। आप देखते होंगे कि यूपी में क्या हो रहा है, मध्यप्रदेश में क्या हो रहा है। पायलट ने कहा कि इस प्रकार की घटनाओं पर हमें हमेशा के लिए अंकुश लगाना होगा, क्योंकि इस तरह की घटनाएं जब होती है तो देश-प्रदेश में दुख की भावना जेहन में आती है। शिक्षक की पिटाई से बच्चे का मर जाना, इससे बड़ा क्या दुख होगा।

टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार

महिला से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में एक आरोपित गिरफ्तार

घर-घर में पूजी दियाड़ी, सहाड़ा के शक्तिपीठों पर विशेष पूजा अर्चना