त्रिवेणी नदीकी पुरानी पुलिया के बराबर पानी, मेजा बांध का जल स्तर 7.19 फीट

 

 

 भीलवाड़ा। एक बार फिर मानसूनजिले में अच्छा बरस रहा है।  बीगोद के नजदीक त्रिवेणी नदीकी पुरानी पुलिया के बराबर पानी पहुँचने के कगार पर है। त्रिवेदी नदी किनारे स्थित शिव मंदिर में नदी का पानी पहुंच गया। 
जल संसाधनविभाग स्थित बाढ़ नियंत्रण कक्ष के अनुसार आज सुबह 8 बजे समाप्तहुए 24 घंटों में गंगापुर में 17 मिमी,गुलाबपुरा 11, आसींद 11, बदनौर32, बनेड़ा 20, हमीरगढ़ 34, हुरड़ा 8, जहाजपुर 41, कोटड़ी 19,मांडल 5, करेड़ा 20, मांडलगढ़51, रायपुर 24, सहाड़ा 28,शाहपुरा 29, बिजौलियां 25,शंभूगढ़ 19, डाबला 7, कारोई 36,रूपाहेली 4, पारोली 32, बागौर 30,ज्ञानगढ़ 25, काछोला61, मौखुंदामें 23 मिमी बारिश हुई। इसी तरहआगूचा बांध पर 4, अरवड़ 10,चंद्रभागा (फंूकिया) 20, जेतपुरा 37, खारी 11, कोठारी 26, मातृकुंडिया 14, मेजा 18, नाहरसागर 8, पाटन 10, सरेरी 5 तथाउ्मेद सागर बांध पर 30 मिमी पानीबरसा। जिले में अब तक 466.65मिमी बारिश हो चुकी, जो औसत630.91 मिमी का 73.97 फीसदीहै। जल संसाधन विभाग के अधीनकुल 60 छोटे-बड़े बांधों में143.2411 मिलियन €यूबिकमीटर पानी आ चुका, जो कुल क्षमता 527.902 मिलियन €यूबिक मीटर का 27.13 प्रतिशत है।
मेजा बांध का जल स्तर 7.19 फीट 
बरसों तक भीलवाड़ा शहर की प्यास बुझाने वाले मेजा बांध का जल स्तर 7.19 फीट है। 30 फीट भराव क्षमता के मेजा बांधमें लड़की बांध भरने पर पानी आता है, पर अभी तक 12फीट क्षमता का लड़कीबांधखाली पड़ा है। चिāाौड़ जिले मेंस्थित मातृकुंडिया बांध फुलहोने पर इसकी मेजा फीडर में पानी छोड़ा जाता है। अभी मातृकुंडिया में भी 7.15 फीट पानी है। इसी बांध के फुल होने पर मेजा में पानी आने की आस है। 

टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार

महिला से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में एक आरोपित गिरफ्तार

डॉक्टरों ने ऑपरेशन के जरिये कटा हुआ हाथ जोड़ा