पत्नी पीहर गई थी, बेटी को स्कूल छोडऩे के बाद फंदे पर झूल गया रेडीमेड कपड़ा व्यापारी

 

  भीलवाड़ा हलचल। शहर के बापूनगर में रेडीमेड वस्त्र व्यवसायी ने फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली। व्यवसासी की पत्नी पीहर गई थी, जबकि उनकी बेटी को वे, खुद स्कूल के टेंपो में छोड़ आये थे। पुलिस का कहना है कि व्यवसायी ने सुसाइड से पहले सुसाइड नोट भी लिख छोड़ा, जिसमें एक व्यक्ति पर उन्हें उलझाने का हवाला दिया गया है। 
प्रताप नगर पुलिस ने बीएचएन को बताया कि मंगलवार को बापूनगर में एक युवक के फांसी लगाने की सूचना मिली। इस पर एएसआई राधाकिशन गुर्जर, राजेंद्र पाल व एचसी कानाराम प्रजापत मय जाब्ता मौके पर पहुंचे। जहां एक मकान में जालोर जिले के धानसा गांव निवासी ४० वर्षीय अमरङ्क्षसह ४० पुत्र पर्वतसिंह राठौड़ गले में स्टोल  का फंदा लगाकर पंखे से झूलते मिले। 
पुलिस ने जांच की तो पता चला कि अमर सिंह की पत्नी चित्तौडग़ढ़ जिले के नेगडिय़ा गांव स्थित अपने पीहर गई थी। वह, बेटी के साथ यहां किराये के मकान पर ही थे। सिंह सुबह बेटी को स्कूल जाने के लिए टेंपो में बैठाकर घर लौटे। इसके बाद उन्होंने यह कदम उठाया। पुलिस ने शव को फंदे से उतरवा कर जिला अस्पताल की मोर्चरी भिजवा दिया। पुलिस ने मृतक के परिजनों को सूचना दी है। पुलिस का कहना है कि अमर सिंह की कुंभा सर्किल पर नेहा कलेक्शन के नाम से रेडीमेड कपड़ों की शॉप थी। 
प्रताप नगर थाना प्रभारी राजेंद्र गोदारा ने बीएचएन को बताया कि अमर सिंह ने सुसाइड से पहले सुसाइड नोट लिख छोड़ा था, जिसे पुलिस ने कब्जे में ले लिया। अमर सिंह ने सुसाइड नोट में बस इतना ही लिखा बताते हैं उन्हें नाथू सिंह ने उलझा दिया था। पुलिस ने सुसाइड नोट कब्जे में ले लिया है। परिजनों के आने पर आगे कार्रवाई की जायेगी। 

टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

महिला से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में एक आरोपित गिरफ्तार

घर-घर में पूजी दियाड़ी, सहाड़ा के शक्तिपीठों पर विशेष पूजा अर्चना