खाटूश्याम में भगदड़ और दलित की मौत के विरोध में सीकर बंद, आंदोलन की चेतावनी

 


सीकर के खाटूश्यामजी में हुई भगदड़ मामले में कार्रवाई और जालोर में दलित छात्र की मौत के विरोध में गुरुवार को सीकर बंद रखा गया है। विरोध जताने वालों ने सरकार को चेतावनी दी है। उन्होंने कहा कि अगर हमारी मांगें नहीं सुनी गई तो आगे बड़ा आंदोलन भी किया जाएगा।


दोनों घटनाओं से आक्रोशित लोगों ने कहा कि शिक्षक की पिटाई से एक दलित छात्र की मौत हो गई। वहीं खाटूश्यामजी में हुई भगदड़ के बाद तीन श्रद्धालुओं की मौत हो गई। उसके बाद प्रशासन ने समाज और जाति विशेष के अधिकारियों को निलंबित कर खानापूर्ति की है। मंदिर कमेटी को बचाने का काम किया है। भगदड़ में तीन श्रद्धालुओं की मौत वास्तव में मंदिर कमेटी की अव्यवस्था का नतीजा है, उन पर कोई कार्रवाई नहीं हुई। इसी को लेकर  सीकर बंद रखा गया है।


आक्रोशित लोगों ने मांग की कि सरकार खाटूश्यामजी मंदिर कमेटी को भंग करके देवस्थान में शामिल कर दे और व्यवस्था अपने हाथ में ले। साथ ही निलंबित अधिकारियों के वापस बहाल करे। जालोर में हुई दलित छात्र की हत्या के मामले को लेकर भी अभी तक कोई ठोस कार्रवाई नहीं हुई है। 

टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार

महिला से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में एक आरोपित गिरफ्तार

डॉक्टरों ने ऑपरेशन के जरिये कटा हुआ हाथ जोड़ा