बेमाली में चोरों की धमाल, तीन भाइयों के कमरों सहित चार घरों में दी दस्तक, गहने व नकदी पर किया हाथ साफ

 


 भीलवाड़ा बीएचएन। जिला पुलिस चोरियां रोकने में पूरी तरह असफल साबित हो रही है। हर दिन चोर, कहीं न कहीं हाथ साफ कर रहे हैं। वहीं पुलिस अधीक्षक भी आये दिन चोरियों की रोकथाम को लेकर दिशा-निर्देश दे रहे हैं, लेकिन थाना प्रभारी इन दिशा-निर्देशों की पालना नहीं कर पा रहे हैं। ताजा वारदात जिले के बेमाली गांव में हुई, जहां तीन भाइयों के कमरों के साथ ही चार घरों के ताले चटकाकर चोर तीन घरों से नकदी व जेवर ले उड़े, जबकि एक घर से कोई कीमती सामान बदमाशों के हाथ नहीं लग पाया और वे उल्टे पांव लौट गये। खास बात यह है कि चोरों ने उन्हीं लोगों के मकानों को निशाना बनाया है, जो अपने मकानों पर ताला लगाकर गुजरात सहित अन्य स्थानों पर रह रहे हैं। 
पुलिस सूत्रों के अनुसार, बेमाली  निवासी नारायण कुम्हार ने करेड़ा थाने में रिपोर्ट दी कि बीती रात उसके पिता छोगा कुम्हार घर में ही गुवाड़ी में सो रहे थे। देर रात चोर मकान में घुस आये। चोरों ने छोगा के गले में पहने रामनामी-मांदलिया काट लिया। इस दौरान छोगा की नींद भी खुली, लेकिन तब तक बदमाश वहां से भाग निकले। 
इसी गांव में चोरों ने प्यारचंद प्रजापत के सूने मकान के ताले तोड़कर वहां सार-संभाल की7 इस दौरान चोरों के हाथ वहां रखी कनगती, पायजैब आदि गहनों पर हाथ साफ कर लिया। पुलिस का कहना है कि प्यारचंद बाहर रहता है। उससे, गांव में रहने वाले भाई ने बात की तो उक्त गहने चोरी होना बताया। उधर, मांगू भील के घर के भी ताले तोड़ दिये गये। चोरों ने मागंू के घर में सार-संभाल की, लेकिन वहां चोरों के हाथ कुछ नहीं लग पाया। मांगू भी बाहर रहता है। उसका घर सूना था। 
इसी तरह चोरों ने रतनलाल कुम्हार के मकान के ताले तोड़कर कनगती, सात हजार रुपये, टोप्स व पायजैब, रामनामी चुरा ली। पुलिस ने बताया कि रतनलाल के ही दो अन्य भाइयों के कमरों के भी चोरों ने ताले तोड़े, लेकिन वहां कीमती सामान नहीं मिला। बता दें कि रतनलाल के दो अन्य भाई भी बाहर रहते हैं, जबकि एक भाई प्रकाश पुत्र जग्गू कुम्हार गांव में ही रहता है। इन चारों भाइयों के कमरे एक ही मकान में बने हुये हैं। उधर, चोरी की इस वारदात की सूचना मिलने पर करेड़ा पुलिस रात में ही बेमाली पहुंची और वारदात की जानकारी लेते हुये चोरों की तलाश शुरु की, लेकिन उनका कोई सुराग हाथ नहीं लग पाया। 

टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

महिला से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में एक आरोपित गिरफ्तार

देवगढ़ से करेड़ा लांबिया स्टेशन व फुलिया कला केकड़ी मार्ग को स्टेट हाईवे में परिवर्तन करने की मांग