Monday, May 24, 2021

बढ़ते मोटापे से जल्द चाहिए छुटकारा तो गेंहू नहीं डाइट में शामिल करें इन 5 आटों से बनी रोटी

 

 भागदौड़ भरी जिंदगी और खानपान की अनदेखी की वजह से आज  लोगों के बीच मोटापा एक आम समस्या बन चुका है। अधिक मोटापा न सिर्फ व्यक्ति की पर्सनालिटी खराब करके उसके आत्मविश्वास को कम करता है बल्कि उसे कई गंभीर रोगों का शिकार भी बना देता है। अगर आप भी अपने बढ़ते मोटापे या वजन से परेशान हैं तो अपनी डेली रूटीन डाइट में थोड़ा सा बदलाव करके देखिए। अक्सर लोग नाश्ते या लंच में गेंहू के आटे से बनी रोटियों का सेवन करते हैं, लेकिन जो लोग वेट लॉस करना चाहते हैं उन्हें अपनी डाइट में गेंहू की जगह दूसरे अनाज के आटे से बनी रोटियों का सेवन करना चाहिए। आइए जानते हैं वेट लॉस की इच्छा रखने वाले लोगों को अपनी डाइट में शामिल करने चाहिए कौन से 5 आनाज के आटे की रोटियां।  

ओट्स का आटा-
ओट्स का आटा कार्बोहाइड्रेट से भरपूर होने के साथ शरीर में कोलेस्ट्रॉल लेवल को कम करके दिल को स्वस्थ बनाए रखने में मदद करता है। ओट्स के आटे से बनी रोटियों का सेवन करने से पेट लंबे समय तक भरा हुआ रहता है और व्यक्ति को बार-बार भूख नहीं लगती है। इससे वजन घटाने में आसानी होती है। 

​रागी का आटा-
रागी शरीर को आयरन, कैल्शियम और फाइबर जैसे पोषक तत्व प्रदान करने के साथ व्यक्ति के बढ़े हुए वजन को घटाने के लिए भी एक बेहतरीन अनाज माना जाता है। रागी में मौजूद ट्राइफोटोफेन नाम का एमिनो एसिड भूख को कम कर वेटलॉस में मदद करता है। विटामिन-सी से भरपूर रागी आयरन और फाइबर का भी एक बेहतरीन स्रोत है जो डायजेशन में मदद करता है।

 

बाजरे का आटा-
बाजरे का आटा ग्लूटेन फ्री होने के साथ फाइबर,मैग्नीशियम और अन्य आवश्यक विटामिनों से भरपूर होता है। जो भूख को कंट्रोल करके व्यक्ति को अतिरिक्त कैलोरी नहीं लेने देता। जिसकी वजह से व्यक्ति को वजन घटाने में आसानी होती है। 

​ज्वार का आटा-
बाजरे की ही तरह ज्वार का आटा भी ग्लूटेन फ्री होता है। इसमें मौजूद प्रोटीन, मिनरल्स और विटामिन न सिर्फ वेट लॉस करने में मदद करते हैं बल्कि डायबिटीज को भी कंट्रोल रखते हैं। ज्वार के आटे से बनी रोटियों का सेवन करने से यह व्यक्ति की भूख पर कंट्रोल कर उसे अनहेल्दी या जंक फूड खाने से बचाता है। 

 

बादाम का आटा-
बादाम के आटे से बनी रोटियों को कीटो डाइट फॉलो करने वाले लोग भी अपने आहार में शामिल कर सकते हैं। बादाम के आटे में फाइबर, कार्ब्स की मात्रा कम होती है, जबकि इसमें मौजूद हेल्दी फैट्स और प्रोटीन शरीर को पोषण देने के साथ व्यक्ति के पेट को देर तक भरा हुआ रखते हैं। 

बाजाद खुले, वाहनों की रेलमपेल रही और लोगो ने की खरीददारी

  भीलवाड़ा। जिले में लगभग पिछले दो माह से कर्फ्यु घोषित किया हुआ था राज्य सरकार के आदेशानुसार कर्फ्यु में ढ़ील देने के बाद बुधवार को सुबह 6 बज...