बारिश के कारण रोकी गई केदारनाथ यात्रा, सुरक्षित पड़ावों पर रोके गए 12 हजार तीर्थयात्री

  


 केदारनाथ घाटी में लगातार बारिश होने के चलते आज मंगलवार को प्रशासन ने केदारनाथ यात्रा को रोका है। केदारनाथ व पड़ाव स्थलों में लगातार बारिश के चलते यात्रियों को सुरक्षित पड़ाव स्थलो में रोका गया है। मौसम ठीक होने पर इन्‍हें रवाना किया जाएगा। गौरीकुंड से सुबह दस बजे तक 12 हज़ार से अधिक यात्री रवाना हुए।

सोमवार को भी रोकी गई थी केदारनाथ यात्रा

केदारनाथ घाटी में लगातार बारिश होने के चलते सोमवार को प्रशासन ने यात्रा तीन घंटे रोकी थी। मौसम खुलने पर पड़ावों पर रोके गए करीब आठ हजार श्रद्धालुओं को केदारनाथ धाम के लिए रवाना किया गया था। करीब पांच हजार श्रद्धालुओं को गौरीकुंड व सोनप्रयाग में रोका गया है। वहीं, धुंध के कारण केदारनाथ के लिए हेली सेवाएं चार घंटे बाधित रही।

बदरीनाथ और गंगोत्री धाम की यात्रा रही सुचारु

बदरीनाथ और गंगोत्री धाम की यात्रा सुचारु रही। यमुनोत्री हाईवे पांच दिन बाद बड़े वाहनों की आवाजाही के लिए खोल दिया गया। यहां धाम तक पहुंचने के लिए पैदल मार्ग पर कीचड़ फैलने से तीर्थयात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ा।

केदारनाथ में हेली सेवा बाधित

केदारनाथ और बदरीनाथ धाम में बर्फबारी हो रही है। केदारनाथ छोड़ अन्‍य तीनों धामों में यात्रा सुचारु है। लगातार हो रही बारिश से केदारनाथ पैदल ट्रैक पर पहाड़ी से पत्‍थर गिरने के खतरे को देखते हुए फिलहाल लगभग 12 हजार यात्रियों को पड़ावों पर रोका गया।

इससे पहले सुबह अलग-अलग चरण में 10 हजार यात्री केदारनाथ धाम के लिए रवाना किए गए। केदारनाथ के लिए हेली सेवा पर भी मौसम का असर है। इसका संचालन रोका गया है। सुबह सात ही उडान हो पाई।

25 मई को बदरीनाथ पहुंचेंगे न्यायमूर्ति उदय उमेश ललित

सर्वोच्च न्यायालय के वरिष्ठ न्यायमूर्ति व राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण के अध्यक्ष उदय उमेश ललित बदरीनाथ पहुंचेंगे। भ्रमण कार्यक्रम के अनुसार न्यायमूर्ति 25 मई को सात बजे हेलीकाप्टर के जरिये केदारनाथ से बदरीनाथ पहुंचेंगे। माणा के निकट गढ़वाल स्काउट मैदान में आयोजित बहुउद्देश्यीय शिविर में प्रतिभाग करेंगे और रात्रि विश्राम बदरीनाथ में करेंगे। शिविर में विधिक जागरूकता के साथ-साथ केंद्र व राज्य सरकार की ओर से संचालित जन कल्याणकारी योजनाओं की जानकारी दी जाएगी। शिविर में सरकारी विभागों के स्टाल लगाकर जन समस्याओं का मौके पर ही निराकरण भी किया जाएगा।

टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

घर-घर में पूजी दियाड़ी, सहाड़ा के शक्तिपीठों पर विशेष पूजा अर्चना

महिला से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में एक आरोपित गिरफ्तार