23 साल बाद पिता की अस्थियां लेकर हरिद्वार गए, लौटते समय कंटेनर से भिड़ी क्रूजर, दो महिलाओं सहित 5 की मौत

 


जयपुर। पिता की अस्थियों का विसर्जन कर हरिद्वार से लौट रहे जयपुर के परिवार की कार रेवाड़ी (हरियाणा) में कंटेनर से जा भिड़ी। इस भीषण हादसे में पांच लोगों की मौके पर ही मौत हो गई। मरने वालों में दो महिलाएं भी शामिल हैं। मंगलवार सुबह हुए इस हादसे की जानकारी मिलते ही गांव में कोहराम मच गया। गाड़ी में सवार 12 लोग गंभीर रुप से घायल हो गए। परिजन 23 साल बाद पिता की अस्थियां लेकर हरिद्वार गए थे।
जानकारी के अनुसार चौमूं के परिवार की क्रूजर गाड़ी सामने से आ रहे कंटेनर से टकरा गई। हादसे में 2 महिलाओं समेत 5 लोगों की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि 10 लोग घायल हो गए। पुलिस ने घायलों को अलग-अलग अस्पतालों में भर्ती कराया है। पिता की अस्थियां हरिद्वार में विसर्जित करने के बेटे अपनी मां और बहन के साथ गाड़ी लेकर गए थे।

जानकारी के अनुसार सामोद के वार्ड नंबर 11 निवासी गोरधन लाल रेगर की 1999 में मौत हो गई थी। आर्थिक स्थिति कमजोर होने के कारण उस समय परिवार के लोग अस्थि विसर्जन नहीं कर पाए थे। अब 15 मई को परिवार के लोग अस्थि विसर्जन करने हरिद्वार गए थे। क्रूजर गाड़ी में परिवार और रिश्तेदारों को मिलाकर कुल 15 लोग थे। वापस लौटते वक्त मंगलवार सुबह करीब 6 बजे शाहजहांपुर बॉर्डर से 8 किलोमीटर पहले बावल थाना क्षेत्र में इनकी गाड़ी सामने से आ रहे कंटेनर से टकरा गई। टक्कर इतनी जोरदार थी कि क्रूजर के परखच्चे उड़ गए।
मृतकों में मोहरी देवी(76) पत्नी गोरधन पिंगोलिया, मालूराम(53) पुत्र गोरधन पिंगोलिया, महेंद्र(39) पुत्र गोरधन पिंगोलिया, आशीष(15) पुत्र मालू राम और सुगना(47) पत्नी बनवारी लाल रेगर निवासी ढोढसर शामिल है। इस दुर्घटना में गाड़ी में सवार कैलाश, बीना देवी, गीता देवी, मंगली देवी, बनवारी लाल, संतोष कुमारी, अंकित, राजा, वीरेंद्र, उर्मिला, डुग्गु और गुड़िया घायल हो गए।
हादसे के बाद आरोपी ड्राइवर कंटेनर लेकर फरार हो गया। हाईवे से गुजर रहे लोगों ने हादसे की सूचना पुलिस को दी। पुलिस ने घायलों को आनन-फानन में अस्पताल में भर्ती कराया। स्थानीय पुलिस मामले की जांच में जुटी है। उधर हादसे की सूचना के बाद परिजन रेवाड़ी के लिए रवाना हो चुके हैं।
सामोद के एक ही परिवार के 5 लोगों की सड़क हादसे में मौत की सूचना मिलने पर कस्बे में शोक की लहर छा गई। कस्बे के बाजार में भी सन्नाटा पसरा है।

टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

देवगढ़ से करेड़ा लांबिया स्टेशन व फुलिया कला केकड़ी मार्ग को स्टेट हाईवे में परिवर्तन करने की मांग

घर-घर में पूजी दियाड़ी, सहाड़ा के शक्तिपीठों पर विशेष पूजा अर्चना