सड़क दुर्घटना में मृतकों के परिजनों व घायलों को 3 लाख 40 हजार की सहायता राशि स्वीकृत

 


चित्तौड़गढ़ हलचल न्यूज

मुख्यमंत्री सहायता कोष से जिला कलक्टर अरविंद कुमार पोसवाल ने पांच अलग-अलग सड़क दुर्घटनाओं में मृतकों के परिजन एवं घायलों के लिए 3 लाख 40 हजार रूपये की सहायता राशि स्वीकृत करने का आदेश जारी किया है। कलक्टर ने सहायता राशि मृतकों के परिजन एवं  घायलों  के बैंक खातों में अविलंब जमा करवाने के निर्देश दिए हैं। इनमें तीन व्यक्तियों की सड़क दुर्घटना में मृत्यु होने पर प्रत्येक की पत्नी को एक लाख रूपये, जबकि सड़क दुर्घटना में 2 गंभीर घायलों को 20-20 हजार रूपये की सहायता राशि दी जाएगी। तहसीलदार निम्बाहेड़ा द्वारा दुर्घटना में मृतकों के परिजन व घायलों को मुख्यमंत्री सहायता कोष से आर्थिक सहायता के लिए प्रस्तुत प्रकरण के तथ्यों के आधार पर यह सहायता राशि स्वीकृत की गई है।  

जिला कलक्टर के आदेशानुसार 16 दिसम्बर 2021 को सड़क दुर्घटना में पप्पूदास पुत्र भैरूदास वैष्णव, निवासी सरसी की मृत्यु होने पर उनकी पत्नी सीता को मुख्यमंत्री सहायता कोष से एक लाख रूपये, 5 जनवरी 2022 को सड़क दुर्घटना में निम्बाहेड़ा तहसील के बोरखेडी निवासी कैलाश चंद्र पुत्र श्रीलाल जाट की मृत्यु होने पर उनकी पत्नी रामूबाई तथा 20 अक्टूबर 2021 को निम्बाहेड़ा के नया बाजार निवासी अंकित पुत्र भैरूलाल बजाज की सड़क दुर्घटना में मृत्यु होने पर उनकी पत्नी किरण के नाम पर एक लाख रूपये की सहायता राशि स्वीकृत की गई है। वहीं, निम्बाहेड़ा तहसील के सरसी निवासी कन्हैयालाल पुत्र पूरणमल सुथार व कल्याणपुरा निवासी गोपाल पुत्र देवीलाल मेघवाल के सड़क दुर्घटना में गंभीर घायल होने पर 20-20 हजार रूपये की सहायता राशि स्वीकृत की गई है।

टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

डांग के हनुमान मंदि‍र के सरजूदास दुष्‍कर्म के आरोप में गि‍रफ्तार, खाये संदि‍ग्‍ध बीज, आईसीयू में भर्ती

एलन कोचिंग की एक और छात्रा ने फांसी लगाकर की आत्महत्या

शीतलाष्टमी की पूजा आज देर रात से, रंगोत्सव (festival of colors) कल लेकिन फैली है यह अफवाह ...!

21 जोड़े बने हमसफर, हेलीकॉप्टर से हुई पुष्पवर्षा

ब्याजखोरों की धमकियों से परेशान ग्रामीण ने खाया जहर, ससुाइड नोट में 5 लोगों पर लगाया परेशान करने का आरोप

मुंडन संस्कार से पहले आई मौत- बेकाबू बोलेरो की टक्कर से पिता-पुत्र की मौत, पत्नी घायल, भादू में शोक

छोटे भाई की पत्नी ने जान दी तो बड़े भाई से पंचों ने की 3 लाख रुपये मौताणे की मांग, परिवार को समाज से किया बहिष्कृत