कलश एवं शोभायात्रा के साथ हुआ,विष्णु महायज्ञ का आगाज , गुजे कोठाज श्याम के जयकारे

 


               

 पारोली। क्षेत्र में जन आस्था के प्रमुख केंद्र कोठाज चारभुजा नाथ के नवनिर्मित मंदिर में विराजमान होने के उपलक्ष में आयोजित 51 कुंडीय विष्णु महायज्ञ का आगाज  शनिवार को  कलश एवं शोभायात्रा के साथ शुरू होगा।लोगों में विष्णु महायज्ञ के आयोजन को लेकर अपार उत्साह दिखा। कलश यात्रा में 1100 महिलाएं एक ही परिधान में चुनर और पीला वस्त्र धारण किए हुए सजी-धजी  धनवाड़ा चौराहा से  सिर पर कलश धारण कर कोठाज कस्बे में भ्रमण करते हुए यज्ञशाला मंडप में पहुंची ,जहा पंडितों द्वारा कलश पूजन कर   कलश स्थापना की गयी।।  राज्य मंत्री धीरज गुर्जर कलश और शोभायात्रा कार्यक्रम में पहुंचे तथा महिलाओं के सिर पर कलश धारण करवाया।  इस मौके पर राज्यमंत्री धीरज गुर्जर ने कहा है कि बरसों से मंदिर निर्माण की मनोकामना पूरी हुई है महायज्ञ निर्बाध रूप से पूर्ण हो और कोठाज श्याम का आशीर्वाद सभी पर बना रहे ऐसी मेरी मनोकामना है ।  उप जिला प्रमुख शंकर लाल गुर्जर, प्रधान करण सिंह कानावत, पूर्व उप प्रधान मनीष गुर्जर, सरपंच गोपाल सिंह कानावत, प्रधान यजमान भीमसिंह मेड़तिया  कलश और शोभायात्रा में चारभुजा नाथ के जयकारे लगाते हुए साथ चल रहे थे । कलश यात्रा के मंदिर परिसर में पहुंचने पर चारभुजा नाथ के  मत्था टेक आशीर्वाद लिया।  कलश और शोभायात्रा में हाथी, घोड़ा ,ऊंट ,बग्घी, के साथ ही भजनों की स्वर लहरियां   बिखेरता बैण्ड , मस्कबाजे की धुन पर कच्ची घोड़ी नृत्य करते कलाकार तथा,ढोल और ताल की थाप पर भगवान के भजनों पर श्रद्धालुओं ने भाव विभोर होकर नृत्य किया  कलश यात्रा के  यज्ञशाला मंडप मे पहुंचने के बाद दोपहर  बाद प्राची देवी की भागवत कथा शुरू हुई।

टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

महिला से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में एक आरोपित गिरफ्तार

घर-घर में पूजी दियाड़ी, सहाड़ा के शक्तिपीठों पर विशेष पूजा अर्चना