उदयपुर में कांग्रेस का चिंतन: एक परिवार एक टिकट फॉर्मूला लागू होगा, कांग्रेस में अब बदलाव की तैयारी

 


उदयपुर। कांग्रेस चिंतन शिविर के बाद पार्टी अब टॉप टु बॉटम बड़े बदलाव की तैयारी में है। इस शिविर के बाद कांग्रेस एक परिवार एक टिकट फार्मूला को लागू करेगी। शुक्रवार को उदयपुर में चिंतन शिविर की शुरुआत होने जा रही है।

इससे पहले कांग्रेस राजस्थान प्रभारी और राष्ट्रीय महा सचिव अजय माकन ने उदयपुर मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि संगठन के पैनल पर डिस्कशन हुए हैं। उन्होंने कहा कि आप चिंतन शिविर बाद बहुत बड़ा बदलाव संगठन में देखेंगे। माकन ने कहा कि हमारे डेमोक्रेसी के नए टूल आ गए हैं।

हमारा सबसे छोटा यूनिट बूथ और उसके बाद सीधे ब्लॉक है। अब हम पोलिंग बूथ और ब्लॉक के बीच मंडल यूनिट बनाएंगे। 15 से 20 बूथ का एक मंडल होगा। पांच मंडल का एक ब्लॉक होगा। इस तरह संगठन का ढांचा होगा। इसके साथ ही कांग्रेस अपना इन साइड डिपार्टमेंट पर काम करेगा। उन्होंने कहा कि पार्टी में अलग से असेसमेंट विंग बनेगी जो नेताओं के कामकाज का आकलन करेगी। खराब काम वालों को हटाया जाएगा और अच्छे काम वालों को प्रमोट करेंगे।

माकन बोले- एक परिवार से एक ही व्यक्ति को टिकट
कांग्रेस में अब एक परिवार से एक ही व्यक्ति को टिकट और पद मिलेगा। अजय माकन ने कहा हमारे पैनल में यह चर्चा हुई है एक व्यक्ति एक पद के फार्मूला को लागू किया जाए। इसके तहत अब पार्टी में एक परिवार से एक ही व्यक्ति को ही टिकट देने पर चर्चा हुई है।

जिसे भी टिकट दिया जाए उसने कम से कम 5 साल पार्टी में काम किया हो। सीधे टिकट नहीं दिया जाए। इसके अलावा पार्टी में लगातार किसी को 5 साल के बाद पद नहीं दिया जाए, कम से कम 3 साल का कूलिंग पीरियड रहे। तीन साल के गैप के बाद ही आगे कोई पद दिया जाए। शिविर से पहले राजस्थान प्रभारी अजय माकन ने मीडिया से बातचीत की। उन्होंने बताया कि संगठन अब नए मॉडल को लागू करेगी। शिविर के बाद कई बड़े बदलाव होंगे।

शुक्रवार सुबह ट्रेन से पहुंचे राहुल गांधी
शुक्रवार सुबह ट्रेन से पहुंचे राहुल गांधी का राजस्थानी अंदाज में उनका स्टेशन पर स्वागत हुआ। राहुल गांधी के साथ दिल्ली से कई बड़े नेता भी ट्रेन से ही आए हैं। सभी नेता बस से होटल ताज अरावली के लिए रवाना हुए हैं। प्रियंका गांधी भी होटल पहुंच चुकी हैं। कांग्रेस राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी उदयपुर एयरपोर्ट पहुंच गई हैं। CM अशोक गहलोत सहित पार्टी के कई वरिष्ठ नेता उन्हें रिसीव करने पहुंचे। यहां से वे ताज अरावली जाएंगी। 2 बजे सोनिया गांधी की स्पीच से चिंतन शिविर शुरू होगा।

तीन दिन चलने वाले इस शिविर में देश की सबसे पुरानी पार्टी का भविष्य तय होगा। कांग्रेस से जुड़े विश्वस्त सूत्र बताते हैं कि यह शिविर अब तक हुए आम शिविरों की तरह नहीं है। शिविर की शुरुआत दोपहर तीन बजे से ग्रुप डिस्कशन के साथ होगी। इससे पहले दोपहर 2 बजे सोनिया गांधी वेलकम स्पीच देंगी।

कांग्रेस ने पिछले कुछ वर्षों में अपने प्रदर्शन को देखते हुए यह तय किया है कि अगर अब भी पार्टी को मजबूत नहीं किया गया तो देर हो जाएगी। ऐसे में इस शिविर में कई बड़े अहम, कड़े और चौंकाने वाले निर्णय हो सकते हैं। इसमें संगठन से लेकर नेतृत्व और नीति तक सब कुछ शामिल है। माना जा रहा है कि नव संकल्प नाम की ही तर्ज पर इस शिविर के बाद एक नई कांग्रेस देखने को मिल सकती है। शिविर में कुछ इस तरह के कड़े निर्णय भी लिए जा सकते हैं जिससे शायद कांग्रेस में सभी खुश ना हों।

इन मसलों पर होगा मंथन, निकलेगा हल

नेतृत्व
इस वक्त कांग्रेस के लिए सबसे बड़ा सिरदर्द नेतृत्व है। कांग्रेस में लगातार नेतृत्व को लेकर सवाल उठते रहे हैं। कई वरिष्ठ नेता पार्टी की जिम्मेदारी गैर-गांधी को देने की वकालत कर चुके हैं। वहीं कईयों का मानना है कि नेता गांधी परिवार से ही होना चाहिए। गांधी परिवार में भी सोनिया और राहुल को लेकर भी कांग्रेस बंटी नजर आती है। ऐसे में इस शिविर में नेतृत्व को लेकर सैद्धांतिक सहमतियां हो सकती हैं।

संगठन
कांग्रेस संगठन पिछले कुछ समय में काफी कमजोर हुआ है। लगातार नेताओं का पार्टी छोड़कर जाना, अंदरूनी गुटबाजी, अविश्वास सहित कई खामियां हैं। ऐसे में इन खामियों को दूर करने को लेकर महत्वपूर्ण और कड़े निर्णय कांग्रेस ले सकती है। शिविर के बाद कांग्रेस संगठन का अंदरूनी ढांचा पूरी तरह बदल सकता है।

नीतियां
अपनी नीतियों को लेकर भी कांग्रेस पिछले कुछ समय में अस्पष्ट नजर आई है। ऐसे में चर्चा है कि कांग्रेस लोगों के बीच खुद को स्थापित करने के लिए अपनी मूल विचारधारा और एजेंडे पर लौट सकती है। ऐसे में आने वाले चुनावों में अपनी नीतियों को लेकर भी कांग्रेस इस शिविर में अहम निर्णय ले सकती है।

जनता में विश्वास
देश के आर्थिक, सामाजिक हालातों पर कांग्रेस लगातार ‌BJP को तो घेरती है, मगर उसका रिजल्ट चुनावों में वोट के रूप में कांग्रेस को नहीं मिलता है। ऐसे में देश के वर्तमान माहौल को देखते हुए कैसे जनता के बीच विश्वास बनाया जा सकता है। उसे लेकर अहम निर्णय होंगे। खासतौर से महिला, युवा, किसान, दलित और आदिवासी वोटर्स को लेकर अहम निर्णय पारित हो सकते हैं।

ताज अरावली में होगा मंथन
शिविर को लेकर तमाम बैठकें ताज अरावली में होंगी। शिविर में तीन अहम ग्रुप डिस्कशन, 6 स्पेशल कमेटियों की बैठक और CWC की अहम बैठक होगी। कांग्रेस के 400 से ज्यादा नेता इसमें शमिल होंगे। इनमें दाे मुख्यमंत्री सहित CWC के तमाम सदस्य, AICC के सदस्य सहित तमाम बड़े नेता शामिल होंगे।

राहुल ट्रेन से, सोनिया-प्रियंका प्लेन से पहुंचे
कांग्रेस के 150 से ज्यादा नेता गुरुवार को उदयपुर पहुंच गए। इनमें शशि थरूर, केसी वेणुगोपाल, रणदीप सुरजेवाला, मल्लिकार्जुन खड़गे, सचिन पायलट सहित सहित कई नेता शामिल हैं। वहीं राहुल गांधी, छत्तीसगढ़ के CM भूपेश बघेल, अविनाश पांडे सहित लगभग 75 नेता ट्रेन से दिल्ली से मेवाड़ एक्सप्रैस से उदयपुर पहुंचे। वहीं सोनिया और प्रियंका गांधी अपने विशेष विमान से ही शुक्रवार सुबह उदयपुर पहुंचे हैं।

4 होटल्स में स्टे, राहुल-प्रियंका के साथ पायलट भी ताज में
चिंतन शिविर के लिए 4 होटल्स ताज अरावली, अनंता रिसोर्ट, ऑरिका लेमन ट्री और रेडिसन ब्लू में नेताओं को रुकवाया गया है। राहुल, सोनिया और प्रियंका गांधी सहित तमाम वरिष्ठ नेता ताज अरावली में रुके हैं। सचिन पायलट भी ताज में ही रुके हैं। नेताओं के लिए एयरपोर्ट पर खास वैलकम किया जा रहा है। वहीं होटल्स में 9 राज्यों से शैफ बुलवाकर खास तरह की डिशेज नेताओं के लिए तैयार करवाई जा रही हैं।

टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

देवा गुर्जर की गैंगवार में हत्या, विरोध में रोडवेज बस में लगाई आग !

देवा गुर्जर हत्या का मुख्य आरोपी दुर्गा गुर्जर गिरफ्तार 3 साथी भी पकड़े गए

वीडियो कोच ने स्कूटर को लिया चपेट में, दो बहनों की मौत, भाई घायल, बागौर में शोक

शराब के नशे में महिला सहित 4 लोगों ने किया तमाशा वीडियो वायरल

आदर्श तापड़िया मर्डर: परिजनों से समझाइश का दूसरा दौर शुरू

मांडल में विवादित कुर्क जमीन मामले को लेकर जुटी भीड़, पुलिस ने लाठियां भांज कर दो किलोमीटर तक खदेड़ा,बाजार बंद

हत्या पर हंगामा, देवा गुर्जर के समर्थकों ने फूंकी बस, मॉर्चरी के बाहर बरसाए पत्थर