हाय रे मंहगाई : नहाने से लेकर खाने तक का सामान महंगा

 


भीलवाड़ा( हलचल )केंद्र के मोदी सरकार के अच्छे दिन आने की उम्मीद में लोगों के अब बुरे दिन आते नजर आ रहे हैं हर चीज के दाम बढ़ रहे हैं महंगाई की मार से अब गरीब तबके के सामने खाने पीने का संकट खड़ा होता जा रहा है और अब हर वस्तु में कटौती करनी पड़ रही है।लोगों को अब रोजमर्रा की वस्तुओं के लिए ज्यादा कीमत चुकानी पड़ेगी। देश में दैनिक उपभोग की सबसे आवश्यक वस्तुओं में शामिल नहाने, कपड़ा धोने का साबुन, टूथ पेस्ट और नूडल्स की कीमतों भी इजाफा हुआ है।

हिन्दुस्तान यूनिलीवर ने फरवरी के मुकाबले अपने उत्पाद नहाने के साबुन पीयर्स के कीमतों में 9 फीसदी जबकि फेस वाश में 3-4 फीसदी की बढ़ोतरी की है। वहीं रिन डिटर्जेंट बार की कीमत में 5-13 फीसदी जबकि डिटर्जेंट पाउडर 2-8 फीसदी महंगा हो गया है।

आईटीसी ने फियामा साबुन के दाम को 11 फीसदी तक बढ़ा दिया है। सिन्थाल साबुन की कीमत 5-24 फीसदी बढ़ा दी है। पतंजलि ने भी साबुन की कीमतों में इजाफा किया है।

टूथपेस्ट की कीमत भी बढ़ी : कोलगेट टूथपेस्ट की कीमतों में 2-18 फीसदी और डाबर के क्लोजअप, बबूल की कीमतों में 4-9 फीसदी का इजाफा हुआ है। चीनी की कीमतों में लगभग 1 फीसदी, गेहूं में 4 फीसदी वहीं जौ की कीमतों में लगभग 21 फीसदी की बढ़ोतरी दर्ज की गई है।

 

रसोई गैस की कीमत  डेढ़ गुना बढ़ी

देश में डेढ़ साल के भीतर घरेलू रसोई गैस की कीमत में डेढ़ गुना तक का इजाफा हुआ। दिसंबर 2020 में रसोई गैस की कीमत 644 रुपये थी, जो अब बढ़कर 1000  रुपये  पार हो गई है।  गुरुवार को 3.50 रुपये की बढ़ोतरी हुई है।

तेल, मसालों की बढ़ती कीमतों ने बिगाड़ा बजट

घरेलू गैस के बाद अब खाद्य तेल और मसालों की कीमतों ने रसोई का बजट बिगाड़ दिया है। सब्जी में तेल और मसालों के साथ ही सब्जियों में भी कटौती की जाने लगी है महिलाओं का कहना है कि उनका बजट पूरी तरह से बिगड़ चुका है

 

खाद्य तेल के दाम भी बढ़े

वैश्विक आपूर्ति शृंखला में अवरोध और इंडोनेशिया द्वारा पाम आयल पर प्रतिबंध के बाद देश में इसकी कीमतों में तेजी से उछाल आया है। सफोला तेल की कीमतों में 10-22 फीसदी वहीं अडानी फार्च्यून के तेल की कीमतों में 16 फीसदी का इजाफा हुआ है।

आटा भी हुआ महंगा भारत से गेहूं के निर्यात के कारण डॉन महंगा हो गया और इसके चलते हटा दी ₹30 किलो बिकने लगा है जबकि बड़े शहरों में इसके दाम ₹50 किलो तक पहुंच गया है

टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

महिला से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में एक आरोपित गिरफ्तार

घर-घर में पूजी दियाड़ी, सहाड़ा के शक्तिपीठों पर विशेष पूजा अर्चना