कोरोना से जंग के लिए भीलवाड़ा तैयार, 280 ऑक्सीजन बेड व ऑपरेशन थियेटर उपलब्ध


 

भीलवाड़ा (वि‍जय / आकाश)। भीलवाड़ा में एक बार फिर कोरोना से मुकाबले की तैयारी शुरू कर दी गई है। महात्मा गांधी अस्पताल में ऑक्सीजन, बेड, ऑपरेशिन थियेटर, लेबर रूम तैयार कर दिये गये। वहीं डॉक्टरों और नर्सेज की टीमों की ड्यूटी तय कर दी गई है। वहीं नगर परिषद ने ऐहतियातन तैयारियां शुरू की है। 
भीलवाड़ा कोरोना का जनक रहने के साथ ही मॉडल भी बना था। अब फिर कोरोना की सुगबुगाहट शुरू हुई है। ऐसे में भीलवाड़ा के महात्मा गांधी अस्पताल में ऐहतियातन सभी तैयारियां पूरी कर ली गई है। अस्पताल के अधीक्षक डॉ.अरूण गौड़ ने बताया कि कोरोना से हम स्थिति से निपटने को तैयार है। अस्पताल में 280 बेड ऑक्सीजन युक्त तैयार कर लिये गए है। वहीं पॉजिटिव मरीज की किसी भी शल्य क्रिया की जरूरत पड़ती है तो इसके लिए ऑपरेशन थियेटर भी तैयार किया गया है। प्रसव के लिए लेबर रूम भी बनाया गया है और यहां 8 बेड अलग से लगाए गए है जिस पर हर सुविधा उपलब्ध रहेगी। इसके अलावा तीन ऑक्सीजन प्लांट चालू है। जिससे ऑक्सीजन की किसी तरह की कमी नहीं आ पायेगी। ऑक्सीजन सिलेण्डर भी तैयार रखे गए है। 
मरीजों को लाने जे लाने के लिए एम्बुलैंस की व्यवस्था भी माकूल है जिससे किसी भी तरह की परेशान न आ पायें। इन सबकी जरूरत न पड़े इसके लिए डॉ. गौड़ ने लोगों से आव्हान किया कि वे कोरोना नियमों का पालन करें, भीड़भाड़ से बचने का प्रयास करें और मास्क का उपयोग करें। 
नगर परिषद चलायेगी जागरूकता अभियान :
नगर परिषद सभापति राकेश पाठक ने हलचल को बताया कि कोरोना संक्रमण से निपटने की तैयारियां नगर परिषद ने भी शुरू कर दी है। मास्क, सैनेटाइजर पर्याप्त मात्रा में रखने के निर्देश दिए गये। वहीं कोरोना को लेकर लापरवाही बरतने वाले लोगों और दुकानदारों पर पहले की तरह जुर्माना करने के लिए रसीद बुकें भी तैयार करवा ली है। पाठक ने कहा कि वैसे तो कोरोना न आये और इन सबकी जरूरत न पड़े। इसके लिए दो दिन बाद से जागरूकता अभियान भी चलाया जाएगा। उन्होंने कहा कि गली मौहल्लों में घूमने वाले कचरा टिप्पर के माध्यम से लोगों को जागरूक किया जाएगा। पाठक ने भी शहर वासियों से कोरोनों संक्रमण से बचाव के लिए सभी नियमों की पालना करने की अपील की है। 


टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

महिला से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में एक आरोपित गिरफ्तार

घर-घर में पूजी दियाड़ी, सहाड़ा के शक्तिपीठों पर विशेष पूजा अर्चना