घोड़ास के ग्रामीणों ने सरजूदास को हटाने का फैसला किया, कलक्टर से की सम्पत्तियों की रक्षा की गुहार

 


भीलवाड़ा (हलचल)। घोड़ास ग्राम में डांग के हनुमान मंदिर के संत सरजूदास को दुष्कर्म के आरोप में गिरफ्तार कर जेल भेजे जाने के बाद अब ग्रामवासियों ने आश्रम से सरजूदास को बेदखल करने का फैसला लेते हुए जिला कलक्टर से मंदिर और इससे जुड़े आश्रमों की सम्पत्ति को अपने अधिकार में लेने की मांग की है। साथ ही ट्रस्ट बनाकर पूजा अर्चना करने का अधिकार ग्रामवासियों द्वारा निभाया जाएगा। 
घोड़ास ग्राम के दर्जनों लोग आज भीलवाड़ा पहुंचे और उन्होंने जिला कलक्टर को दो पेजीय ज्ञापन दिया जिसमें कहा गया कि घोड़ास के डांग का हनुमान मंदिर प्राचीन है और इसकी सम्पत्तियां भी काफी है। इस मंदिर की पूजा अर्चना 1969 में गोविंददास जी महाराज  कर रहे थे। उनके निधन के बाद राममूर्ति दास ने 1995 में यह काम संभाला। तत्पश्चात राममूर्ति दास का निधन होने पर रामदास महाराज और उनके बाद अब सरजूदास महाराज आश्रम की देखरेख कर रहे थे। इनका नाता करेड़ा चम्पाबाग के पुजारी परसरामदास जी से है। 

टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

मुंडन संस्कार से पहले आई मौत- बेकाबू बोलेरो की टक्कर से पिता-पुत्र की मौत, पत्नी घायल, भादू में शोक

जहाजपुर थाना प्रभारी के पिता ने 2 लाख रुपये लेकर कहा, आप निश्चित होकर ट्रैक्टर चलाओ, मेरा बेटा आपको परेशान नहीं करेगा, शिकायत पर पिता-पुत्र के खिलाफ एसीबी में केस दर्ज

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार