गंगरार में प्रेमी से मिलकर बहिन ने करवाई थी भाई की हत्या, बहिन सहित 3 आरोपी गिरफ्तार ,1 बाल अपचारी डिटेन

 


चित्तौड़गढ़/ गंगरार (पीयूष मुंदड़ा/ठाकुर कुमार सालवी) कस्बे में कुवें में मिली एक युवक की लाश की हत्या के मामले में गंगरार थाना पुलिस ने खुलासा करते हुए मृतक की बहिन सहित तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया है, वहीं एक बाल अपचारी को डिटेन किया है। मृतक की बहिन ने अपने प्रेमी के साथ मिलकर की थी सगे भाई की हत्या। मृतक उसकी बहिन की शादी अपनी बिरादरी में करवाना चाहता था, जबकि आरोपी बहिन अपनी पसंद से प्रेमी के साथ जाना चाहती थी। आरोपियों ने दृश्यम फ़िल्म देखकर हत्या करने का षड्यंत्र रचा।
     पुलिस अधीक्षक राजन दुष्यंत ने बताया कि गंगरार कस्बे में 5 दिसम्बर को हनुमान मन्दिर के पीछे की तरफ, किले के नीचे, पहाडी के ढलान में करीब 150-200 फीट नीचे कुए में अज्ञात व्यक्ति की हत्या कर बिना सिर का धड़ मिलने व दूसरे ही दिन उसका सिर भी मिलने पर सोशल मिडीया के माध्यम से उक्त अज्ञात मृतक की शिनाख्त मध्यप्रदेश के ऐरिया पुलिस थाना गरोठ जिला मन्दसौर हाल भाणेज शान्तिलाल रायका निवासी भाटखेडा पुलिस थाना गंगरार निवासी 23 वर्षीय महेन्द्र पुत्र गोविन्द्र रायका के रूप में हुई थी। उक्त घटना के संबन्ध मृतक महैन्द्र रायका के मामा शान्तिलाल रायका निवासी भाटखेडा पुलिस थाना गंगरार की रिपोर्ट पर थाना गंगरार पर हत्या व सबूत मिटाने की धाराओ अज्ञात मुल्जिमानो के विरूद्ध प्रकरण दर्ज कर जांच थानाधिकारी गंगरार शिवलाल मीना द्वारा की गई।
          प्रकरण की गम्भीरता के मद्देनजर एसपी  राजन दुष्यन्त व एएसपी श्री अर्जून सिंह के निर्देश पर पुलिस उप अधीक्षक श्री भवानी सिंह के नेतृत्व में एसएचओ शिवलाल मीना व थाना गंगरार से एएसआई नगजीराम, भैरूलाल, अमीचन्द, हैड कानि धर्मेन्द्र, नरेन्द्र व कानि धर्मपाल, ओमप्रकाश, भीवाराम, माधवलाल, रोशनलाल, कालूराम, मनीष, वेदराम, राजेश व साईबर सैल से हैड कानि राजकुमार, कानि रामावतार व कमलेश, प्रवीण की अलग अलग टीम बनाई जाकर साक्ष्य एकत्र किये गये। 
      मुखबीर से मिली सुचना अनुसार मृतक महेन्द्र के ननिहाल के गांव भाटखेडा जहां मृतक की माँ आजोदिया बाई व उसकी बहीन तनू उर्फ तनिष्का दो साल से रह रही है। जहां पर आरोपी महावीर धोबी निवासी गंगरार का उनके घर पर आना जाना है तथा मृतका की बहिन तनू उर्फ तनिष्का से आरोपी महावीर धोबी के अवैध सम्बन्ध है। जिस पर आरोपी महावीर धोबी की गतिविधीयों पर नजर रख गम्भीरता से जांच-पडताल की गई तथा तकनिकी रूप से जांच की गई। जांच से आरोपी महावीर धोबी की गतिविधीया संदिग्ध पाई जाने से आरोपी महावीर धोबी को शुक्रवार को शाम के समय गणेश घाटी के पास पहाडी से डिटेन कर गहनता से पुछताछ की गई तो आरोपी महावीर धोबी ने मृतक महेन्द्र रायका की बहिन तनु उर्फ तनिष्का से आपराधिक षड़यंत्र रचकर अपने अन्य साथी कस्बा गंगरार निवासी 20 वर्षीय महेन्द्र पुत्र पन्नालाल धोबी व एक अन्य बाल अपचारी के साथ मिलकर मृतक महेन्द्र रायका की हत्या करना कबुल किया। जिस पर दुसरे आरोपी महेन्द्र धोबी को भी गणेश घाटी गंगरार से शुक्रवार को शाम के समय डिटेन कर बाद हर दोनो आरोपी गणो को गिरफ्तार किया गया। घटना में शामिल एक अन्य बाल अपचारी को शनिवार को डिटेन किया गया तथा मृतक महेन्द्र रायका की बहन 19 वर्षीय तनू उर्फ तनिष्का पुत्री गोविन्द रायका निवासी ऐरिया पुलिस थाना गरोठ जिला मन्दसौर हाल निवासी ननिहाल भाटखेडा पुलिस थाना गंगरार जिला चितौडगढ को शनिवार को उसके घर भाटखेडा से डिटेन कर बाद पुछताछ गिरफतार किया गया।
*पुलिस पूछताछ में आरोपियों ने कबूली वारदात-*
गिरफ्तार आरोपी महावीर धोबी ने बताया की मेरी जान पहचान भाटखेडा में रहने वाली तनू रायका से आज से करीब 03 साल पहले हुई थी। वह अपनी मॉ व छोटी बहिन एवं भाई के साथ भाटखेडा में रहती थी। मैं व तनू दोनो मोबाइल फोन पर बाते करने लग गये। मेरे व तनू रायका दोनो के बीच अवैध सम्बन्ध हो गये। आज से करीब दो साल पहले तनू ने उसकी छोटी बहिन से मेरे राखी बांधकर कर धर्म का भाई बनाया। उसके बाद मैं तनू के घर आने जाने लग गया। मेरे द्वारा तनू को घुमाने फिराने व काम से लेकर जाने एवं हमारे आपस में बातचित करने की जानकारी उसके भाई महैन्द्र को पता चली तो वह मेरे को एक तो, घर पर नही आने व बातचित करने के लिए मना करने लगा। उसके बाद तनू से मेने 40000 रूपये उधार लिए थे। जिसकी जानकारी उसके भाई महैन्द्र को चल गई जो मेरे से आई दिन पेसो की मांग करने लग गया। इसी दौरान महैन्द्र व उसकी बहिन तनू की सगाई आटे-साटे में उज्जेन की तरफ कर दी। इस पर तनू ने मेरे को बताया की में वहां शादी नही करना चाहती में तेरे से शादी करना चाहती हॅू। पहले तो तनू ने उसकी मॉ को शादी बाद में करने के लिए बोला। लेकिन 11 नवंबर को तनू का भाई घर पर आया तो शादी जल्दी करने की जिद करने लगा। तनू ने मुझे बताया की मेरे व मेरे भाई महेन्द्र की फरवरी में शादी करने वाले है। जिस पर मेने व तनू ने प्लान बनाया की महेन्द्र आये दिन पेसो की भी मांग करता है और शादी की भी जिद कर रहा है। इसको रास्ते से हटा देते है जो न ही तो पेसे देने पडेंगे और न ही शादी होगी। अपन ही आपस मंे मिलते रहेगे। मैने व तनू ने ही महेन्द्र को मारने व हमारे बिच से हटाने का प्लान किया एवं प्लान के अनुसार मैने व मेरे अन्य साथियो के साथ मिलकर 16 नवम्बर को महेन्द्र रायका की हत्या कर दी। आरोपी महैन्द्र धोबी ने पुछताछ पर बताया की हमने यह घटना दृश्यम फिल्म को देखकर प्लान बना कर कारीत की है। 
*वारदात का तरीका:-*
 11 नवम्बर को मृतक महेन्द्र रायका जो मन्दसौर में होटल ढाबो पर काम करता था जो अपने घर आया था। दुसरे दिन महेन्द्र की बहिन तनू व छोटी बहिन को बुआ जी के घर ब्रथडे पार्टी में कोटा जाना था। जिसको महावीर धोबी अपनी वैन में बिठाकर चितौडगढ तक छोडकर आया था। उस दिनांक मृतक की बहिन तनू ने आरोपी महेन्द्र धोबी को बोला था कि महैन्द्र घर आ गया है, हम कोटा से वापस आयेगे उस दिन महेन्द्र को मारना है। 16 नवम्बर को तनू व उसकी बहिन दोनो कोटा से घर आ रही थी। जहां प्लान अनुसार तनू द्वारा अपने भाई महैन्द्र रायका को मोबाईल फोन करके बोला कि मैं आ रही हॅू, तु महावीर धोबी की मोटरसाईकिल लेकर हमे लेने गंगरार चौराहे पर आ जाना। जिस पर महैन्द्र रायका घर से दिन के समय पैदल ही गंगरार के लिए रवाना हो गया। तनू द्वारा भाई महेन्द्र की लोकेशन महावीर धोबी को बताई तो, महावीर धोबी स्वयं की वैन लेकर भाटखेडा की तरफ गया और जहां रास्ते में ही महेन्द्र रायका को बिठाकर ले आया। महावीर धोबी द्वारा महैन्द्र रायका को लेकर गंगरार किले पर हनुमान जी के मन्दिर के पास चला गया और वहां महावीर धोबी ने अपने साथी महेन्द्र धोबी व अन्य साथी बाल अपचारी को बुलाया और अपने दोनो साथियो के साथ मिलकर महेन्द्र रायका की हत्या करने की योजना बनाई। किले पर बैठकर सभी ने गांजा पिया। वैन में बैठाकर शारणेश्वर महादेव मन्दिर से आगे सुनसान जगह पर ले जाकर अंधेरा होने के बाद तीनो ने मिलकर गमछा(तोलिया) से महैन्द्र रेबारी का गला घोट दिया तथा लाश को ठिकाने लगाने के लिए बिजली के वायर से हाथ व पैर बांध दिये। हत्या करने के बाद रात्री करीब 10-11 बजे लाश को किले पर ले जाकर, किले पिछे स्थित कुए में डाल दिया और पने अपने घर चले गये। 
        प्लान के अनुसार पुलिस पकड से बचने व पुलिस को गुमराह करने के लिए मृतक महेन्द्र रायका का मोबाईल फोन को बन्द कर दिया और 05 दिन बाद 21 नवम्बर को महावीर धोबी द्वारा स्वयं के मोबाईल को गंगरार में ही रख कर मृतक महेन्द्र रायका के मोबाईल को लेकर रेल्वे स्टेशन चितौडगढ से ट्रेन में बैठकर मन्दसौर पहुंचा। मन्दसौर रेल्वे स्टेशन उतर कर मन्दसोर में महाराणा प्रताप सर्किल के पास मोबाईल को चालू किया व चालू करने के बाद योजना अनुसार तनू ने महेन्द्र रायका के फोन पर कॉल किया जिसको महावीर धोबी ने कॉल उठाया। वहां से फोन को रोड के किनारे पर डालकर महावीर धोबी पुनः ट्रेन में बैठकर गंगरार आ गया। तनू ने अपनी मॉ व छोटी बहिन को गुमराह करने के बोला कि 21 नवम्बर को मेरी भाई महेन्द्र से बात हुई है व मन्दसौर की तरफ गाडी पर है। जबकि आरापियों ने मृतक की बहिन तनू के साथ मिलकर आपराधिक षड़यंत्र रचकर 16 नवम्बर को ही महेन्द्र की हत्या कर दी थी।
     हत्यारे के साथी महेंद्र धोबी पर पुलिस को उसी दिन शंका हो गई थी जब गंगरार पुलिस द्वारा 5 दिसंबर कुए से लाश को बाहर निकालने के दौरान आरोपी महेन्द्र धोबी पुलिस की गतिविधीयो पर नजर रखने और पुलिस की सहानुभुति लेने के लिए मृतक की लाश का कुए से बाहर निकालने व लाश को फिनाईल से साफ करने में जान बुझ कर आगे आकर पुर्ण सहयोग कर रहा था। जब पुलिस द्वारा मृतक महेन्द्र रायका के हाथ पर कुछ लिखा हुआ है या नही यह जानने के लिए मृतक का हाथ फिनाईल से साफ कर लाईट के उजाले से देख रहै थे तो पुलिस को मृतक के हाथ पर कमलेश रायका जैसा लिखा हुआ दिखाई देने से नाम बोला तो उस समय वहां मौजूद आरोपी महैन्द्र धोबी ने एकदम बोला की इस के हाथ पर लिखा हुआ नाम कमलेश रायका नही, महैन्द्र रायका है।
गिरफ्तार आरोपी
1 महावीर पिता किशन लाल धोबी उम्र 24 साल निवासी धोबीयों का मोहल्ला कस्बा गंगरार पुलिस थाना गंगरार जिला चितौडगढ
2. महेन्द्र पिता पन्नालाल धोबी उम्र 20 साल निवासी कस्बा गंगरार पुलिस थाना गंगरार
3. तनू उर्फ तनिष्का पिता गोविन्द उर्फ किशन रायका उम्र 19 साल निवासी ऐरिया पुलिस थाना गरोठ जिला मन्दसौर हाल निवासी ननिहाल भाटखेडा पुलिस थाना गंगरार जिला चितौडगढ

एक विधी से संर्घषरत बालक को भी डिटेन किया गया है।

टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

देवा गुर्जर की गैंगवार में हत्या, विरोध में रोडवेज बस में लगाई आग !

देवा गुर्जर हत्या का मुख्य आरोपी दुर्गा गुर्जर गिरफ्तार 3 साथी भी पकड़े गए

कन्या हत्याकांड- भीलवाड़ा में साली की हत्या कर भागे जीजा ने एमपी में दी जान, मार कर मरुंगा का एफबी पर लगाया था स्टेटस

छोटे भाई की पत्नी के साथ होटल में रंगरलियां मना रहा था पुलिसकर्मी, सिपाही पत्नी ने पकड़ा और कर दी धुनाई

66वीं राज्य स्तरीय वॉलीबॉल प्रतियोगिता के सेमीफाइनल मैच कल , राजस्थान का गोल्डमैन व समाजसेवी कन्हैया लाल खटीक आएंगे

गंगरार कस्बे में कुए में मिली लाश की हत्या का खुलासा, प्रेमी से मिलकर बहिन ने करवाई थी भाई की हत्या,

डांग के हनुमान मंदि‍र के सरजूदास दुष्‍कर्म के आरोप में गि‍रफ्तार, खाये संदि‍ग्‍ध बीज, आईसीयू में भर्ती