न्यास के जोनल प्लान में बड़ा खेल, भूमाफियाओं को फायदा, किसानों को करोड़ों की चम्पत

 


भीलवाड़ा (विजय/सम्पत)। नगर विकास न्यास द्वारा जोनल प्लान की आड़ में भूमाफियाओं को फायदा पहुंचाने का बडा़ खुलासा हुआ है। किसानों की जमीनों का बिना मुआवजा दिए सौ और एक सौ बीस फीट की सड़कें प्रस्तावित कर दी गई है। जिससे किसानों के साथ करोड़ों का खेल खेला जा रहा है। इस खेल का खुलासा हैदराबाद के एक कारोबारी ने करते हुए कहा कि वे इसे उच्च न्यायालय तक ले जायेंगे। उनका आरोप है कि यहां कोई सुनने वाला नहीं है। वे न्यास की कारगुजारी को लेकर मुख्यमंत्री व स्वायत्त शासन मंत्री से मिलेंगे।
एक निजी होटल में मकराना के रहने वाले और हैदराबाद में कारोबारी मुरलीमनोहर रांदेड़ ने कहा कि राज्य सरकार ने पहले 2035 तक मास्टर प्लान तैयार किया हुआ है। उसके आधार पर शहर का विकास किया जाना है लेकिन नगर विकास न्यास भीलवाड़ा ने जोनल प्लान बी तैयार कर पांसल ग्राम की आराजी 612/8, 616, 617, 818, 5007 जो 12 बीघा 2 बिस्वा भूमि मेरी है। इस जमीन से दो भूमाफियाओं को फायदा पहुंचाने के लिए एक सड़क आरटीओ चौराहे से दो सौ फिट तक निकाली है। जबकि इन जमीनों के दोनों तरफ सड़कें पहले से ही है। 
रांदेड़ का आरोप है कि नगर विकास न्यास ने जोनल प्लान में यह शर्त रख दी कि जिस जमीन से सड़क निकाली जाएगी उसका मुआवजा नहीं दिया जाएगा। न्यास के इस प्रस्ताव के चलते सड़क में मेरी 2 बीघा से अधिक जमीन जा रही है। जिससे करोड़ों का नुकसान होता है। इस संबंध में उन्होंने न्यास को नोटिस भी दिए है। लेकिन उनका जवाब उन्हें नहीं मिल पाया है। 
आरटीआई का भी नहीं दिया जवाब, की अपील :
उन्होंने कहा कि न्यास से जोनल प्लान के बारे में आरटीआई के जरिए 12 अक्टूबर 2022 को जानकारी मांगी गई लेकिन कई चक्कर देने के बावजूद उन्हें कोई जानकारी नहीं दी गई। इसके चलते उन्होंने जिला कलक्टर के पास पहली अपील की है। उनका आरोप है कि न्यास में कोई सुनने वाला नहीं है। ऐसे में उन्हें अपील करने के लिए मजबूर होना पड़ा है। पिछले पांच दिनों से वे न्यास के चक्कर लगा रहे है लेकिन कोई जवाब देने वाला नहीं मिला।
कहां है सड़क की जरूरत :
रांदेड़ का आरोप है कि जोनल प्लान में जो सड़क प्रस्तावित की गई है। इस सड़क पर न तो कोई अस्पताल है, न कोई कोई कॉलेज है और न ही कोई महत्वपूर्ण विभाग या उद्योग जिसके लिए यह सड़क बनाने की आवश्यकता है। 10 हजार की आबादी वाला मंगलपुरा गांव है जो पहले ही सड़क से जुड़ा है, ऐसे में दो भूमाफियाओं को बड़ा फायदा पहुंचाने के लिए यह सड़क प्रस्तावित की गई है। 
मुख्यमंत्री से मिलेंगे :
हैदराबाद के कारोबारी का कहना है कि जोनल प्लान में खेले गए खेल का खुलासा करने के लिए वे मुख्यमंत्री और स्वायत्त शासन मंत्री से जयपुर जाकर मिलेंगे और किस तरह किसानों के साथ करोड़ों का धोखा कर भूमाफियाओं को फायदा पहुंचाने का खेल खेला जा रहा है। इसको सामने लायेंगे। अगर वहां भी सुनवाई नहीं होती है तो फिर वे उच्च न्यायालय का सहारा लेंगे। 
यह भी कहा :
नगर विकास न्यास और भूमाफियाओं में गठजोड़ के आरोप लगाते हुए उन्होंने कहा कि जोनल प्लान पांच हिस्सों में बांटा गया है जिसमें कई ऐसी सड़कें है जो बिना मुआवजे के बनाई जाएगी। इनमें से कई सड़कों की तो आवश्यकता ही नहीं है। यह सिर्फ भूमाफियाओं को फायदा पहुंचाने का खेल है। उन्होंने कहा कि पिछले दो माह में उन्होंने न्यास अध्यक्ष, सचिव व पटवारी तक को इस मामले में नोटिए दिए है लेकिन किसी ने भी जवाब देना उचित नहीं समझा है। उन्होंने कहा कि न्यास में कोई सुनने वाला नहीं है, कोई जवाब नहीं देता है। ऐसे में उन्हें कानूनी कार्रवाई के लिए मजबूर होना पड़ रहा है। मुख्यमंत्री और मंत्री से मिलने के बाद कोई हल नहीं निकलता है तो वे जनवरी माह के पहले सप्ताह में होईकोर्ट में जनहित याचिका के साथ ही एक अन्य वाद भी दर्ज करायेंगे जिसमें जोनल प्लान तैयार करने वाले अधिकारियों को शामिल करेंगे। 
राज्य सरकार का स्पष्ट मार्गदर्शन है कि क्षेत्र से गुजरने वाली हाईटेंशन लाईट को आधार मानकर निर्धारित मापदण्ड के अनुसार ही सड़क प्रस्तावित की जानी चाहिए थी लेकिन ऐसा नहीं किया गया है। यही नहीं भूमाफियाओं को फायदा पहुंचाने के लिए सड़कों को इधर-उधर घुमाया गया है। 

टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार

महिला से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में एक आरोपित गिरफ्तार

डॉक्टरों ने ऑपरेशन के जरिये कटा हुआ हाथ जोड़ा