राजकीय महात्मा गांधी विद्यालय रायपुर में अचानक गिरा प्लास्तर, टला बड़ा हादसा

 

रायपुर/भीलवाड़ा (हलचल /विशाल वैष्णव)। कस्बे की राजकीय महात्मा गांधी विद्यालय में आज उस समय बड़ा हादसा टल गया जब स्कूल समय में ही बरामदे का प्लास्तर गिर गया। जहां प्लास्तर गिरा वहां छात्राओं के जूते चप्पल रखे हुए थे। यह तो गनीमत रही कि उस समय वहां कोई नहीं था। घटना की जानकारी मिलने पर उपखंड अधिकारी के साथ ही अन्य अधिकारी भी मौके पर पहुंचे और स्थिति का जायजा लिया। एसडीएम ने तत्‍काल ही मरम्‍मत के आदेश दि‍ए है । 
जानकारी के अनुसार सात साल से बन्द पड़े राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय कुमावत मौहल्ला जर्जर अवस्था में हो चुकी थी और इसमें कोई सुविधा नहीं होने को लेकर भी भीलवाड़ा हलचल ने 25 सितम्बर को ही समाचार प्रसारित किये थे। इसके बावजूद इस विद्यालय में महात्मा गांधी राजकीय विद्यालय को प्रारम्भ कर दिया गया। जिसमें वर्तमान में 260 से अधिक बच्चियां अध्ययनरत है। पूर्व में चेतावनी भी दी गई थी कि यह विद्यालय कभी भी हादसे का कारण बन सकता है लेकिन इस चेतावनी को दरकिनार कर विद्यालय शुरू किया गया। इसी का परिणाम है कि आज विद्यालय के बरामदे के बड़े क्षेत्र का प्लास्तर अचानक भरभराकर गिर गया। यह प्लास्तर जहां गिरा वहां चौथी-पांचवी छात्राओं के जूते-चप्पल रखे हुए थे। गनीमत रही कि उस समय कोई छात्रा वहां नहीं थी जिससे जान-माल की क्षति नहीं हुई। इससे छात्राओं में हड़कम्प मच गया। घटना जानकारी प्रधानाचार्य दीपाली लखावत ने सीबीओ राकेश कुमार शर्मा को दी। इस पर शर्मा के साथ ही उपखण्ड अधिकारी राजेश सुवालका, तहसीलदार नारूलाल रेगर, नायब तहसीलदार भंवर लाल धोबी, पटवारी विनोद सालवी,गिरदावर तुलसीराम मौके पर पहुंचे।
उल्लेखनीय है कि विद्यालय पहले ही क्षतिग्रस्त बताया जा चुका है और कमरों की छत में पट्टियों की दरारें भी बिना प्लास्तर के नजर आ रही है।उपखंड अधिकारी राजेश सुवालका ने मौके का जायजा लेने के बाद सीबीओ राजेश शर्मा को तत्काल प्लास्तर वापस कराने के साथ ही छोटी मोटी मरम्मत कराने के निर्देश दिए है।
सुवालका ने कहा कि दुर्घटना जैसी कोई आशंका नहीं है। इसकी जांच पहले ही शिक्षा विभाग की तकनिकी टीम द्वारा करवाई गई। इसके बाद इसमें बालिका विद्यालय खोला गया। 

टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

देवगढ़ से करेड़ा लांबिया स्टेशन व फुलिया कला केकड़ी मार्ग को स्टेट हाईवे में परिवर्तन करने की मांग

महिला से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में एक आरोपित गिरफ्तार