दौसा में सचिन पायलट ने राहुल गांधी को दिखाई ताकत, क्या अब सूबे की सियासत में भरेंगे उड़ान?

 


 सचिन पायलट ने अपने क्षेत्र दौसा में राहुल गांधी को ताकत दिखाने में कोई कसर नहीं छोड़ी. राहुल गांधी भी इस तरह के भव्य स्वागत को देखकर उत्साहित दिखाई दिए.

 कन्याकुमारी से शुरू होकर कश्मीर जा रही कांग्रेस नेता राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा इन दिनों कांग्रेस शासित प्रदेश राजस्थान   से गुजर रही है. प्रदेश में कांग्रेस सरकार के चार साल पूरे होने पर मनाए जा रहे जश्न के बीच यात्रा के सौवें दिन राहुल दौसा  पहुंचे. इस दौरान कांग्रेस नेता व टोंक विधायक सचिन पायलट   भी उनके साथ थे. पायलट के पूर्व संसदीय क्षेत्र में लोगों ने यात्रा का जोरदार अंदाज में ऐतिहासिक स्वागत किया.

सड़क से लेकर छतों तक हजारों लोगों को हुजूम उमड़ पड़ा. समर्थकों ने गांधी और पायलट के पक्ष में जमकर नारेबाजी की. जगह-जगह स्वागत द्वार लगाए गए. अनेक स्थानों पर छतों से फूल भी बरसाए गए. अपने क्षेत्र में पायलट ने गांधी को ताकत दिखाने में कोई कसर नहीं छोड़ी. गांधी भी इस तरह के भव्य स्वागत को देखकर उत्साहित दिखाई दिए.

पायलट परिवार का गढ़ है दौसा
सूबे की सियासत में दौसा क्षेत्र पायलट परिवार का गढ़ कहा जाता है. सचिन पायलट दौसा लोकसभा सीट से ही पहली बार जीतकर सांसद बने थे. इसी लोकसभा क्षेत्र से उनकी मां रमा पायलट और पिता पूर्व केंद्रीय मंत्री राजेश पायलट (Rajesh Pilot) भी सांसद रहे हैं. यही वजह है कि यहां पायलट परिवार का राज है. पायलट के प्रति जनता का भरोसा है और उन्होंने आज तक उस भरोसे को कायम रखा है. यही वजह है कि जब वो अपने क्षेत्र में अपनों के बीच पहुंचे तो स्वागत में सड़कों पर सैलाब आ गया.

ऐसा रहा है सचिन का सियासी सफर
माता-पिता की तरह ही सचिन का सियासी सफर बेहद रोचक और सफल रहा है. वे महज 26 साल की युवावस्था में सांसद बन गए. सचिन पहली बार वर्ष 2004 में दौसा से सांसद चुने गए. 2006 में केंद्र सरकार के गृह विभाग में समिति सदस्य और नागरिक उड्डयन मंत्रालय के सलाहकार समिति सदस्य रहे. वर्ष 2009 में दूसरी बार अजमेर से सांसद बने. 2012 में सरकार ने उन्हें केंद्रीय राज्य मंत्री बनाया. वर्ष 2014 में कांग्रेस पार्टी ने बड़ी जिम्मेदारी सौंपते हुए राजस्थान प्रदेश अध्यक्ष नियुक्त किया. 2018 में राजस्थान विधानसभा चुनाव में टोंक सीट से जीतकर विधायक बने और अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) सरकार में राजस्थान के 5वें उप मुख्यमंत्री रहे.

भारत जोड़ो यात्रा में हैं सक्रिय
सचिन पायलट भारत जोड़ो यात्रा में लगातार सक्रिय हैं. सुबह से शाम तक यात्रा मार्ग पर राहुल गांधी के साथ कदम से कदम मिलाकर चल रहे हैं. इस यात्रा के प्रदेश आगमन से पहले पायलट ने खुद पर एक वीडियो शूट करवाकर सोशल मीडिया पर प्रमोशन किया और लोगों को इससे जुड़ने की अपील की. अब यात्रा के दौरान पार्टी स्तर के अलावा खुद भी डेली वीडियो हाइलाइट्स के जरिए यात्रा को प्रमोट कर रहे हैं.

चर्चा में है सचिन की टीशर्ट
यात्रा के दौरान सचिन पायलट की टीशर्ट चर्चा का विषय बनी हुई है. सचिन हर दिन एक नया मुद्दा लेकर जनता के बीच आते हैं. वे डेली ऐसी टीशर्ट पहनते हैं जिस पर 'आओ साथ चलें' अपील के साथ नए संदेश लिखे होते हैं. पहले दिन 'बेकारी से रोजगार तक..आओ साथ चलें' लिखी टीशर्ट पहनी. इसके बाद 'महंगाई की हार तक', 'किसानों के अधिकार तक','बहनों के सम्मान तक' जैसे मुद्दों को लेकर शामिल हुए. अब तो उनके समर्थकों और फॉलोवर्स को इंतजार रहने लगा है कि सचिन आज कौनसा मुद्दा लेकर आएंगे.

टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

महिला से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में एक आरोपित गिरफ्तार

देवगढ़ से करेड़ा लांबिया स्टेशन व फुलिया कला केकड़ी मार्ग को स्टेट हाईवे में परिवर्तन करने की मांग