व्याख्याता योगेश कर रहे सरकारी स्कूल के विद्यार्थियों को मोटिवेट

 

 पुर BHN . उन्होंने पंद्रह विषय में पीजी किया है, विश्वविद्यालय की 160 से अधिक परीक्षाओं में दस हजार से भी अधिक अंक प्राप्त कर विश्व रिकॉर्ड बना चुके हैं, कई विषयों में विश्वविद्यालय की मेरिट में नाम दर्ज करवाने के साथ-साथ एमए राजस्थानी में गोल्ड मेडल प्राप्त कर चुके हैं।  वो शख्स जिले की सरकारी स्कूलों में घूम घूमकर विद्यार्थियों को कैरियर काउंसिलिंग, मोटिवेशनल स्पीच के माध्यम से सुयोग्य नागरिक बनने के लिए प्रेरित कर रहे हैं। जी हाँ, ये हैं राजकीय बालिका उच्च माध्यमिक विद्यालय नागौरी मोहल्ला पुर में भूगोल व्याख्याता और कार्यवाहक प्रधानाचार्य योगेश दाधीच, जिन्होंने अपने अर्जित ज्ञान को सरकारी स्कूल के बच्चों तक पहुँचाने के लिए एक कार्यक्रम बनाया। इस कार्यक्रम को नाम दिया 'युगीन शिक्षा प्रवाह' दो पारी विद्यालय होने से 12.30 बजे स्कूल से छूटते ही विभिन्न स्कूलों में जाकर शिक्षा प्रवाह के माध्यम से बच्चों को मोटिवेशनल स्पीच देते हैं।

 

 इन विषयों पर करते हैं मोटिवेट 

योगेश संस्कार शिक्षा, विद्यार्थी की दिनचर्या, पढ़ाई कैसे करें, परीक्षा के भय से मुक्ति, परीक्षा कैसे दें, असफलता से मुकाबला, प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी, सफल कैरियर कैसे बनाएं, खुश रहें, स्वस्थ रहें, पर्यावरण जागरूकता, राष्ट्रभाषा हिन्दी का ज्ञान, रुचि का चयन और परिष्कार आदि विषयों पर रोचक तरीके से उदाहरणों के माध्यम से बच्चों को मोटिवेट करते हैं।

 

बच्चों से डायरी में करवाते हैं नोटिंग 

मोटिवेशनल स्पीच के बाद योगेश उस स्कूल के बच्चों से स्पीच से क्या सीखा के अलावा वो क्या बनना चाहते हैं और खुद में क्या सुधार करेंगे यह भी नोट करवाते हैं।

 

  जिला कलेक्टर मोदी ने भी की प्रशंसा 

एक कार्यक्रम के दौरान भीलवाड़ा जिला कलेक्टर आशीष मोदी को जब योगेश के कैरियर काउंसिलिंग और मोटिवेशनल स्पीच की जानकारी हुई तो उन्होंने इस कार्य की बहुत प्रशंसा की। मोदी स्कूलों में बच्चों को कैरियर काउंसिलिंग के पक्षधर हैं और स्वयं स्कूलों में जाकर बच्चों से बात करते हैं।

 योगेश सरकारी स्कूल के बच्चों को प्रेरित करके बहुत प्रशंसनीय कार्य कर रहे हैं। बच्चों को आज कैरियर काउंसिलिंग और मोटिवेशन की जरूरत भी है।

योगेश पारीक

एडीपीसी, समसा भीलवाड़ा

टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

घर-घर में पूजी दियाड़ी, सहाड़ा के शक्तिपीठों पर विशेष पूजा अर्चना

महिला से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में एक आरोपित गिरफ्तार