एक जाति से कोई CM नहीं बन सकता बगावत को याद कर इशारों में गहलोत का पायलट पर निशाना


मुख्यमंत्री गहलोत ने बातों-बातों में सचिन पायलट को नसीहत दे डाली। उन्होंने कहा कि मैं सौभाग्यशाली हूं, जो मुझे 36 कौम का प्यार मिला। मैं इस बात को जानता हूं कि जातियों के आधार पर कोई मुख्यमंत्री नहीं बनते हैं।

कांग्रेस आलाकमान के अशोक गहलोत बनाम सचिन पायलट की लड़ाई सुलझाने के प्रयास विफल होते नजर आ रहे हैं। एक बार फिर दोनों गुटों में बयानबाजी जारी है। अब अशोक गहलोत ने सचिन पायलट पर निशाना साधते हुए कहा कि एक जाति से कोई मुख्यमंत्री नहीं बन सकता है।


मीडिया रिपोर्टस के अनुसार मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने रविवार को भरतपुर के उच्चैन में जनसभा को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि मैं अपनी जाति से अकेला विधायक हूं पर मुझे सभी जातियों से समर्थन मिला है। इसलिए मैं मुख्यमंत्री बना हूं। मैं सौभाग्यशाली हूं कि हर वर्ग और जाति के लोग प्यार करते हैं। वह 36 कौम के नेता है। जाट हो, गुर्जर हो, बनिया हो, मीणा हो, मुझे सभी को समर्थन मिला। इसी दौरान उन्होंने इशारों-इशारों में सचिन पायलट पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि मैं इस बात को जानता हूं कि जातियों के आधार पर कोई मुख्यमंत्री नहीं बनते हैं। अगर 36 कौम मुझसे प्यार नहीं करती, आशिर्वाद नहीं देती, मैं तीसरी बार मुख्यमंत्री कैसे बनता।


बसपा से आए विधायकों ने बचाई सरकार
सीएम गहलोत ने बातों-बातों में कांग्रेस सरकार के संकट का भी जिक्र कर डाला। उन्होंने कहा कि बसपा से आए विधायकों ने मेरी सरकार बचाई। मैं उनका आभारी हूं। मैं मुख्यमंत्री के रूप में उनके सामने हूं। बसपा विधायकों के साथ की वजह से ही मुख्यमंत्री हूं, नहीं तो मेरी सरकार गिर जाती। गहलोत ने आगे कहा कि विधायक जोगिंद्र सिंह अवाना और बसपा के साथियों ने हमारा साथ दिया। हमें स्पष्ट बहुमत नहीं मिल पाया था। इन्होंने सरकार बचाई। अगर ये लोग साथ नहीं देते तो मैं समझता हूं कि आज मैं मुख्यमंत्री के रूप में आपके सामने खड़ा नहीं मिलता।


फिर सरकार बनी तो नहीं छोडेंगे कोई कसर
इसके साथ ही अशोक गहलोत ने कहा कि अगर राजस्थान के लोगों ने साथ दे दिया और फिर से सरकार बनी तो हम कोई कसर नहीं छोड़ेंगे। राजस्थान देश में सिरमौर बने, यही हमारा प्रयास रहेगा। उन्होंने भाजपा को घेरते हुए कहा कि बीजेपी काम नहीं करती है केवल झूठ बोलती है। 

 

टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

महिला से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में एक आरोपित गिरफ्तार

घर-घर में पूजी दियाड़ी, सहाड़ा के शक्तिपीठों पर विशेष पूजा अर्चना