वंडर सीमेंट प्लांट में बॉयलर ऑपरेटर की मौत: मुआवजे की मांग को लेकर धरने पर बैठे ग्रामीण

 


नि‍म्‍बाहेड़ा । वंडर सीमेंट प्लांट में बॉयलर ऑपरेटर की निरीक्षण के दौरान सीढ़ियों से गिरने पर मौत हो गई। करीब 35 फीट ऊपर से गिरने के बाद कर्मचारी का एक हाथ बॉडी से अलग हो गया। हादसे के बाद उदयपुर ले जाते समय राजेश कुमार पड़लीवाल (40) पुत्र शंकर लाल ने रास्ते में ही दम तोड़ दिया। राजेश चित्तौड़गढ़ की गंगरार तहसील के बुढ गांव का रहने वाला था। मामला निम्बाहेड़ा के सदर थाने का है। घटना 3 दिसम्बर को दोपहर 3 बजे हुई। मृतक परिवार में अकेला कमाने वाला था। ऐसे में परिवार पर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा है।

घटना के बाद पीड़ित परिवार और आक्रोशित ग्रामीण मुआवजे की मांग को लेकर सीमेंट प्लांट के सामने धरने पर बैठे है। मांगों को लेकर वंडर सीमेंट के अधिकारियों से वार्ता के लिए तीन लोगों का दल बनाया गया है। जिसमें गणेश साहू चिकसी पूर्व सरपंच, लालराम चार चोकला अध्यक्ष, बंशीलाल बुढ पूर्व सरपंच शामिल है। जहां प्लांट में अधिकारियों क साथ पहले दौर की वार्ता हो रही है। लोगों ने चेतावनी देते हुए कहा कि जब तक मांगें पूरी नहीं होगी धरना जारी रहेगा। फिलहाल शव का पोस्टमार्टम भी नहीं करवाया गया है। परिजन मांगों को लेकर अड़े हुए है।

रास्ते में ही तोड़ा दम

पुलिस ASI दिलीप कुमार ने बताया कि वंडर सीमेंट की ओर से हादसे के बारे में जानकारी दी गई थी। बॉयलर ऑपरेटर राजेश कुमार पड़लीवाल पुत्र शंकर लाल निरीक्षण के दौरान सीढ़ियों से गिर गया। हादसे के उदयपुर जिला अस्पताल ले जाया गया, लेकिन रास्ते में ही दम तोड़ दिया। शव को उदयपुर के राजकीय महाराणा भोपाल अस्पताल की मोर्चरी में रखवाया गया है। मांगों लेकर परिजन और ग्रामीण अड़े हुए। फिलहाल शव का पोस्टमार्टम नहीं करवाया गया है। निम्बाहेड़ा कोतवाली थाना अधिकारी फूलचंद टेलर मौके पर मौजूद है। मामले की गंभीरता को देखते हुए धरना स्थल पर सदर और कोतलवाली दो थानों का जाप्ता बुलाया गया है।

परिवार में इकलौता कमाने वाला था

परिजनों ने बताया कि राजेश कंपनी में 10 साल से काम कर रहा था। चित्तौड़गढ़ के बेगूं उपखंड स्थित गंगरार तहसील में बुढ गांव का रहने वाला था। कंपनी ज्वॉइन करने के बाद ही पुराना हाउसिंग बोर्ड इश्क्काबाद में किराए के मकान में पत्नी गीता और बेटी भावना साहू (15) के साथ रह रहा था। पिता भरदीशंकर, मां गीता और छोटा भाई अशोक (30) खेती काम करते हैं। वहीं, सबसे छोटी बहन संगीता की शादी हो चुकी है।

ये हैं मांगें

  1. पीड़ित परिवार को 1 करोड़ 10 लाख रुपए का मुआवजा दिया जाए।
  2. राजेश की बेटी 18 की नहीं होती है तब तक शिक्षा और खर्चा कंपनी वहन करें।
  3. मृतक को मिलने वाली सैलेरी पीड़ित परिवार को दी जाए।
  4. बेटी को बालिग होने के बाद पिता की जगह कंपनी में नौकरी दी जाए।

टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार

महिला से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में एक आरोपित गिरफ्तार

घर-घर में पूजी दियाड़ी, सहाड़ा के शक्तिपीठों पर विशेष पूजा अर्चना