श्री सम्‍मेद शि‍खर बचाओ को लेकर सकल जैन समाज ने मौन जुलूस निकाल राष्‍ट्रपति‍ के नाम दिया ज्ञापन

 


भीलवाड़ा (हलचल)। सकल जैन समाज भीलवाड़ा द्वारा आज देशव्‍यापी श्री सम्‍मेद शि‍खर जी बचाओ आन्‍दोलन के तहत वि‍शाल सभा व राजेन्‍द्र मार्ग स्‍कूल से माैन जुलूस नि‍काल कर राष्‍ट्रपति‍ के नाम जि‍ला कलक्‍टर को ज्ञापन सौंपा है। सकल जैन समाज की ओर से आज दोपहर 12 बजे तक अपने प्रतिष्ठान भी बंद रखे ।
सकल जैन समाज संयोजक प्रवीण चौधरी ने बताया कि‍ पारसनाथ पर्वतराज को वन्‍य जीव अभ्‍यारण्‍य, पर्यावरण पर्यटन के लि‍ए घोषि‍त इको सेंसि‍टि‍व जोन के अंतर्गत जोनल मास्‍टर प्‍लान व पर्यटन मास्‍टर प्‍लान, पर्यटन-धार्मि‍क पर्यटन सूची से बाहर कि‍या जाये, पारसनाथ पर्वतराज को बि‍ना जैन समाज की सहमति‍ के इको सेंसि‍टि‍व जोन के अंतर्गत वन्‍य जीव अभ्‍यारण्‍य का एक भाग और तीर्थ माना जाता है लि‍खकर तीर्थराज की स्‍वतंत्र पहचान व पवि‍त्रता नष्‍ट करने वाली झारखण्‍ड सरकार की अनुशंषा पर केंद्रीय वन मंत्रालय द्वारा जारी अधि‍सूचना को अवि‍लम्‍ब रद्द कि‍या जाये, पारसनाथ पर्वतराज और मधुबन को मांस मदि‍रा बि‍क्री मुक्‍त पवि‍त्र जैन तीर्थ स्‍थल घोषि‍त कि‍या जाये, पर्वतराज की वन्‍दना मार्ग को अति‍क्रमण, वाहन संचालन व अभक्ष्‍य सामग्री बि‍क्री मुक्‍त कर यात्री पंजीकरण, समान जांच हेतु सीआरपीएफ व स्‍कैनर, सीसीटीवी कैमरे सहि‍त दो चेक पोस्‍ट चि‍कि‍त्‍सा सुवि‍धा सहि‍त बनाये जाये, पर्वतराज से पेड़ों का अवैध कटान, पत्‍थरों का अवैध खनन और महुआ के लि‍ए आग लगाना प्रतिबंधि‍त हो की मांग की। 

प्रवीण चौधरी ने बताया कि‍ श्री सम्‍मेद शि‍खर जी को धार्मिक स्‍थल घोषि‍त कर वहां धार्मि‍क क्रि‍या ही करें । अगर हमारी मांगों को स्‍वीकार नहीं कि‍या जाता है तो झारखण्‍ड सरकार के वि‍रोध में आने वाले समय में भारत बन्‍द रख आन्‍दोलन को मजबूर होना पड़ेगा।

इस मौके पर श्री वर्धमान स्‍थनकवासी संघ अध्‍यक्ष राजेन्‍द्र चि‍पड़, सकल दि‍गम्‍बर जैन समाज भीलवाड़ा अध्‍यक्ष सोहनलाल गंगवाल, श्री तेरापंथ समाज अध्‍यक्ष जसराज चोरड़ि‍या व मूर्ति‍पूजक संघ समाज अध्‍यक्ष मुकनराज बोहरा के साथ ही सैंकड़ों सकल जैन समाज के महि‍ला व पुरूष मौजूद थे। 

टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

घर-घर में पूजी दियाड़ी, सहाड़ा के शक्तिपीठों पर विशेष पूजा अर्चना

महिला से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में एक आरोपित गिरफ्तार