दवा व्यापारी से बेटे का अच्छे कॉलेज में एडमिशन के नाम पर सात लाख हड़पे, 5 लाख की अब भी कर रहे हैं मांग, मुकदमें में फंसाने की दी धमकी, तीन पर केस

भीलवाड़ा हलचल। साउथ अफ्रीका में खुद की गोल्ड माइंस होने का दावा करने वाले एक व्यक्ति ने भीलवाड़ा के दवा कारोबारी से सात लाख रुपये हड़प लिये। आरोप है कि इस व्यक्ति ने दवा कारोबारी को उसके बेटे का अच्छे कॉलेज में एडमिशन कराने के नाम पर यह राशि हड़पी है। पीडि़त की रिपोर्ट पर सुभाषनगर पुलिस ने एफआईआर दर्ज कर जांच शुरु कर दी। 
सुभाषनगर पुलिस ने हलचल को बताया कि वर्धमान कॉलोनी निवासी व दवा व्यापारी सुनील पुत्र सत्यनारायण भारद्वाज ने तिरूपती राज नगर, गायत्री मंदिर के पास, पालमपुर, (गुजरात) निवासी विजयकुमार 48 पुत्र प्रकाशचंद्र जैन, उसकी पत्नी सीमा 44 व इनके बेटे ऋषभ जैन 20 के खिलाफ रिपोर्ट दी। सुनील भारद्वाज ने रिपोर्ट में बताया कि उनका मेडिकल दवा का व्यापार है। उनका बेटा देवांश कोटा में आईआईटी की पढ़ाई कर रहा था, जहां उसका एक सहपाठी आरोपित ऋषभ  जैन भी पढ़ाई कर रहा था। ऋषभ, अपने पिता विजय जैन और मां सीमा जैन को लेकर परिवादी के घर भीलवाड़ा आया। इन लोगों ने परिवादी को विश्वास में लेकर कहा कि उसके बेटे देवांश का एडमिशन डोनेशन के आधार पर अच्छे कॉलेज में करवा देंगे, जिस पर पहले तो परिवादी ने मना कर दिया, बाद में दुबारा ये आरोपित, परिवादी के घर आये और  विजय ने परिवादी से कहा कि उसकी साउथ अफ्रीका में गोल्ड की मार्इंसे है, जिसका वह मैनेजमेन्ट देखता है। पूरे भारत में उसकी काफी अच्छी जान पहचान है। विजय ने परिवादी से उसके बेटे का अच्छे कॉलेज में एडमिशन कराने का झांसा देकर 10 लाख रूपये मांगे।  7 लाख रूपये पहले देने पडेंगे तथा 3 लाख रूपये एडमिशन के बाद दे देना। इसके बाद आरोपित विजय ने फोन कर परिवादी से कहा कि  आपके बच्चे का एडमिशन जयपुर के नम्बर 1 लक्ष्मी निवास मित्तल टैक्नॉलोनी इंस्टीट्यूट में कंफर्म करवा दिया है। आप रुपये दे दो। इसके बाद आरोपित दंपती व उनका बेटा परिवादी के घर आया। इन लोगों ने  रुपये परिवादी से ले लिये। इसके बाद विजय को एडमिशन के लिये पूछने पर टालमटोल करता रहा ।  तीनों आरोपित  फरवरी 2021 में पुन: परिवादी के घर आये और  कहा कि बकाया पैसे भेजने पर ही बच्चे का एडमिशन होगा। आरोपित विजय के कहने पर परिवादी ने आरोपिता सीमा के खाते में रुपये ट्रांसफर करवा दिये।  इस प्रकार कुल 07 लाख रूपये तीनो आरोपितों ने परिवादी से धोखाधड़ी पूर्वक ले लिये। परिवादी ने कॉलेज में मालूम किया तो परिवादी से कहा गया कि यहां डोनेशन के आधार पर एडमिशन नहीं हेाता है। इसके बाद आरोपितों से परिवादी ने संपर्क किया तो वे टालमटोल करते रहे और एक चेक ढाई लाख रुपये का दिया, जो बैंक से अनादरित हो गया।  परिवादी ने रुपयों का तकाजा किया तो आरोपितों ने व्यवसाय चौपट करने व झूंठे मुकदमें में फंसाने की धमकी दी। परिवादी का कहना है कि आरोपितों ने उसके साथ धोखाधड़ी कर उसके बच्चे के एडमिशन के नाम पर 7 लाख रूपये हडप लिये एवं अब नाजायज 5 लाख रूपये की मांग कर धमकीयां दे रहे है। पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरु कर दी। 

 

टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

मुंडन संस्कार से पहले आई मौत- बेकाबू बोलेरो की टक्कर से पिता-पुत्र की मौत, पत्नी घायल, भादू में शोक

जहाजपुर थाना प्रभारी के पिता ने 2 लाख रुपये लेकर कहा, आप निश्चित होकर ट्रैक्टर चलाओ, मेरा बेटा आपको परेशान नहीं करेगा, शिकायत पर पिता-पुत्र के खिलाफ एसीबी में केस दर्ज

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार